Home National Uttarakhand उत्तराखण्ड देवभूमि ही नहीं वीर भूमि भीः सीएम

उत्तराखण्ड देवभूमि ही नहीं वीर भूमि भीः सीएम

38
0
SHARE
uknews-CM on the occasion of the program of ex-servicemen at Narasimha Maidan
नरसिंह मैदान में पूर्व सैनिकों के कार्यक्रम के मौके पर सीएम।
रानीखेत/देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड देवभूमि ही नहीं वीर भूमि भी है। यहां के सैनिकों ने देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अदम्य साहस का परिचय दिया है। मुख्यमंत्री सोमवार को रानीखेत में नरसिंह मैदान में उपस्थित पूर्व सैनिको को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में राष्ट्रवाद व देशभक्ति की परम्परा रही है। यहां के जवानों की रग-रग में ‘‘मै से पहले देश भक्ति’’ का भाव है।

अनेक महत्वाकंाक्षी योजनायें चलाने का निर्णय

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व सैनिको सहित सैनिक आश्रितो के लिए राज्य सरकार द्वारा अनेक महत्वाकंाक्षी योजनायें चलाने का निर्णय लिया है। वीर सैनिकों व शहीदों के आश्रितों को सरकारी नौकरी सहित जिला स्तर पर को-आपरेटिव समूह बनाने के लिए प्रयास किये जा रहे है। ग्रामीण क्षेत्रों में होम स्टे योजना चलायी जा रही है। इसके माध्यम से पूर्व सैनिको को पर्यटन से जोडने का प्रयास किया जा रहा है।

पिरूल से भी किया जा सकता है विद्युत उत्पादन

वनाग्नि को रोकने और भूतपूर्व सैनिकों व युवाओं को स्वावलम्बन की ओर अग्रसर करने के लिये पिरूल नीति लागू की गई है। पिरूल से विद्युत उत्पादन भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यदि ढाई नाली जमीन किसी के पास है तो वह अपनी जमीन में इस उद्योग को स्थापित कर विद्युत उत्पादन कर सकता है साथ ही 10-12 लोगों को रोजगार भी मुहैया कर सकता है।

कोसी-भुजान पेयजल पम्पिंग योजना की जा रही तैयार

मुख्यमंत्री ने कहा कि छावनी परिक्षेत्र सहित रानीखेत के आसपास के क्षेत्र में पेयजल समस्या से निजात दिलाने के लिए रानीखेत में कोसी-भुजान पेयजल पम्पिंग योजना तैयार की जा रही है। इस योजना की डीपीआर तैयार कर ली गयी है जिसकी लागत 60 करोड़ रू0 है जिसमें 13 करोड़ सेना द्वारा दिया जायेगा शेष 47 करोड़ रू0 राज्य सरकार वहन करेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भूतपूर्व सैनिकों की समस्याओं के निदान के लिये सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गए हैं। देहरादून की तर्ज पर हल्द्वानी में भी सेना के सहयोग से एक छात्रावास बनाया जायेगा जिसमें सैनिकों एवं उनके आश्रितों के बच्चों को अच्छी शिक्षा सुविधा प्रदान की जायेगी।
इस अवसर पर मसूरी के विधायक श्री गणेश जोशी जो स्वयं एक भूतपूर्व सैनिक रहे है, ने भूतपूर्व सैनिकों को सम्बोधित करते हुये कहा कि प्रदेश यशस्वी मुख्यमंत्री हमेशा सैनिकों की समस्याओं के निदान के लिये तत्पर रहते है। उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का लाभ उठाने की बात कही। इस अवसर पर सेना के कर्नल आॅफ द रजिमेंट ले0 जनरल बी0एस0 सेरावत ने भी सम्बोधित किया।
कार्यक्रम में कर्नल नीरज सूद, शौर्य चक्र कार्यवाहक उप कमांडेट के0आर0सी0 एवं टी0बी0सी0 प्रशिक्षण बटालियन, ले0 कर्नल नक्षत्र भंडारी, जी0एस0ओ0 1 (प्रशिक्षण) ले0 कर्नल विजय नरसिम्हन, शिक्षा अधिकारी, केन्द्र के सभी सैन्य अधिकारी, सूबेदार मेजर, जे0सी0ओ0, सैनिको सहित नव प्रशिाक्षुओं के परिजन, जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी0 रेणुका देवी, संयुक्त मजिस्टेªट हिमांशु खुराना, अपर जिलाधिकारी के0एस0 टोलिया, उपजिलाधिकारी रजा अब्बास, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट सहित अन्य गणमान्य लोग व सैन्य अधिकारी उपस्थित थे।