Home National Uttarakhand उत्तराखण्ड बोर्ड का रिजल्ट घोषित

उत्तराखण्ड बोर्ड का रिजल्ट घोषित

42
0
SHARE
uknews-Education Minister Arvind Pandey declaring Uttarakhand Board 10th and 12th results
शिक्षामंत्री अरविंद पांडे उत्तराखंड बोर्ड का दसवीं व बारहवीं का रिजल्ट घोषित करते हुए।

दसवीं मंे 74.57 तो बारहवीं मंे 78.97 प्रतिशत बच्चे हुए पास

देहरादून/रामनगर। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने शनिवार को 10वीं और 12वीं के रिजल्ट घोषित कर दिया। 10वीं में कुल 74.57 प्रतिशत बच्चे और  12वीं में 78.97 प्रतिशत बच्चे उत्तीर्ण हुए हैं। प्रदेश में 1 लाख 30 हजार 94 बच्चों से दसवीं और एक लाख 46 हजार 166 विद्यार्थियों ने बारहवीं की परीक्षा दी थी। परीक्षा उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद के सभापति आरके कुंवर ने रिजल्ट घोषित किए।

10वीं में काजल व 12वीं में दिव्यांशी रही टॉपर

10वीं में ऊधमसिंहनगर के राणा प्रताप इंटर कॉलेज की छात्रा काजल प्रजापति टॉपर रहीं। काजल ने 98.40 प्रतिशत अंक हासिल कर उत्तराखण्ड बोर्ड में टॉप किया है। 12 वीं में 78.97 फीसदी हुए विद्यार्थी उत्तीर्ण रहे। आरएलएस चैहान इंटर कॉलेज जसपुर की छात्रा दिव्यांशी राज टॉपर रहीं। दिव्यांशी को 98.40 प्रतिशत नंबर मिले हैं।
विद्यालयी शिक्षामंत्री अरविंद पांडे द्वारा उत्तराखंड बोर्ड का दसवीं व बारहवीं का रिजल्ट जारी किया गया। उत्तराखण्ड बोर्ड की परीक्षा में लड़कियों ने फिर बाजी मारी। 12वीं में 82.83 प्रतिशत छात्राएं उत्तीर्ण हुई, तो 75.03 प्रतिश छात्र उत्तीर्ण हुए। वहीं 10वीं में 80.22 प्रतिशत छात्राएं उत्तीर्ण हुईं। 10वीं में मात्र 68.96 प्रतिशत छात्र ही पास हो पाए।

प्रदेश भर में बागेश्वर जिले का रहा सबसे बेहतर प्रदर्शन

दसवीं की परीक्षा में बागेश्वर का जलवा बरकरार रहा। बागेश्वर जिले के 84.06 प्रतिशत बच्चे पास हुए और हरिद्वार सबसे फिसड्डी रहा, दसवीं में हरिद्वार के 64.96 प्रतिशत बच्चे उत्तीर्ण हुए। 12वीं की बोर्ड परीक्षा में भी बागेश्वर जिले का जलवा रहा, 12वीं में जिले के 91.99 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण रहे। हरिद्वार सबसे फिसड्डी जिला रहा यहां 66.09 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए।
विद्यालयी शिक्षा परिषद के सभापति डॉ. आरके कुंवर ने कहा कि बोर्ड का नतीजों में पहाड़ के बच्चों का प्रदर्शन बेहतर रहा है। खासकर बागेश्वर, चमोली और पिथौरागढ़ के विद्यार्थियों का पासिंग प्रतिशत 80 के पार ही रहता है। पहाड़ में शिक्षकों की तैनाती पर हम काम कर रहे हैं।
मैदान में शिक्षक होने के बावजूद नतीजें बेहतर क्यों नहीं आ रहे हैं, इस पर भी गौर किया जाएगा। हाईस्कूल में बागेशवर का रिजल्ट 84.06 के साथ अव्वल रहा। जबकि रूद्रप्रयाग 81.87,पौड़ी 81.13 व पिथौरागढ़ का 80.63 प्रतिशत रिजल्ट रहा।
जबकि मैदानी जिलों में हरिद्वार  64.96 और उधमसिंह नगर 64.75 रिजल्ट के साथ फिसड्डी रहे। इंटर में भी बागेश्वर  91.99 लेकर अव्वल रहा। जबकि रुद्रप्रयाग 89.77, पिथौरागढ़ 86.13 व अल्मोड़ा 86.06 प्रतिशत रिजल्ट रहा। जबकि मैदानी जिलो में हरिद्वार  66.09 रिजल्ट के साथ फिसड्डी रहा।