Home News National गुजरात और हिमाचल प्रदेश पर जीत के बाद मोदी ने कहा शुक्रिया

गुजरात और हिमाचल प्रदेश पर जीत के बाद मोदी ने कहा शुक्रिया

55
0
SHARE
uknews-modi-shah

नई दिल्ली: गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात में ‘विकास पागल हो गया है’ के कांग्रेस के प्रचार का अपने अंदाज में जवाब दिया।

दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने गुजरात की जीत को बहुत बड़ी जीत बताते हुए कहा कि 30 साल बाद सूबे में फिर से जातिवाद के बीज बोने की कोशिश हुई, तरह-तरह के षडयंत्र रचे गए लेकिन जनता ने उन षडयंत्रों को नाकाम कर दिया।

गुजरात की जीत को विकास की जीत बताते हुए पीएम ने गुजरात के लोगों को शुक्रिया कहा। मोदी ने कहा कि गुजरात और हिमाचल के नतीजों से साबित होता है कि अगर आप विकास नहीं करते हैं और गलत काम में उलझे हुए हैं तो 5 साल बाद जनता आपको बेदखल कर देगी।

गुजरात और हिमाचल में नए मुख्यमंत्री पर चर्चा के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त
गुजरात और हिमाचल में जीत के बाद सोमवार शाम को दिल्ली में बीजेपी के संसदीय बोर्ड की बैठक हुई।

बैठक के बाद जे. पी. नड्डा ने बताया कि दोनों राज्यों में अगले मुख्यमंत्री के नाम पर चर्चा के लिए पार्टी दिल्ली से केंद्रीय पर्यवेक्षकों को भेजेगी। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली और सरोज पांडे को गुजरात के लिए पर्यवेक्षक बनाया गया है। हिमाचल प्रदेश के लिए निर्मला सीतारमण और नरेंद्र तोमर पर्यवेक्षक बनाए गए हैं।

‘जीएसटी को लेकर दुष्प्रचार हुआ’

संसदीय बोर्ड की बैठक से पहले पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि परिणामों से साफ है कि जनता जीएसटी जैसे सुधारों के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘जब यूपी में नगर निकाय के चुनाव चल रहे थे तो जोर-शोर से कहा जा रहा था कि जीएसटी की वजह से यूपी के शहरों में बीजेपी खत्म हो जाएगी। गुजरात चुनाव से पहले भी ऐसे ही अफवाहों का जोर था।

पिछले दिनों जीएसटी के बाद महाराष्ट्र में भी स्थानीय निकाय के चुनाव हुए तो बीजेपी को जीत मिली। मैं देश के बुद्धिजीवियों से आग्रह करता हूं कि हम जो यहां बैठकर देश के सामान्य मानविकी का आंकलन करते हैं और गलत दिशा में चले जाते हैं..उससे लोगों का भला नहीं होता और देश का नुकसान होता है। इन चुनाव परिणामों से स्पष्ट है कि देश रिफॉर्म के लिए तैयार है…परफॉर्म को लेकर पॉजिटिव है और ट्रांसफॉर्म में लोग विश्वास जता रहे हैं।’

‘देश बदल रहा है’

मोदी ने बिना नाम लिए केंद्र की पिछली यूपीए सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पहले लोगों में सरकार से आशाएं नहीं थी लेकिन अब नई आकांक्षाएं हैं। उन्होंने कहा, ‘आज मिडल क्लास की आकांक्षाएं इतनी बढ़ी हुई हैं…पहले की सरकारों को लेकर इस देश के सामान्य मानविकी के मन में आशा-अपेक्षाएं नहीं थी।

चलो भाई गुजारा कर लें, जैसे-तैसे काट लेते हैं…ऐसी सोच थी। लेकिन आज देश नई अपेक्षाएं, नई उम्मीदों, नई आकांक्षाओं और नए सपने लेकर चल रहा है।

‘विकास से भटके तो जनता स्वीकार नहीं करती’

गुजरात में लगातार छठी बार बीजेपी के सत्ता में आने और हिमाचल में कांग्रेस से सत्ता छीनने को प्रधानमंत्री ने सीधे-सीधे विकास की जीत बताया। उन्होंने कहा, ‘गुजरात हिमाचल के नतीजे इस बात के सबूत हैं कि अगर आप विकास नहीं करते हैं और गलत काम में उलझे हुए हैं तो 5 साल के बाद जनता आपको स्वीकार नहीं करती है। हिमाचल की जनता ने विकास के लिए वोट दिया है।’

‘गुजरात की जीत असाधारण और राजनीति को नई दिशा दिखाने वाली’

मोदी ने गुजरात की जीत को बहुत बड़ी जीत बताया। उन्होंने कहा, ‘गुजरात के चुनाव बीजेपी के इतिहास में अभूतपूर्व चुनाव था। आज के वातावरण में कोई सरकार 5 साल के बाद दोबारा जीतकर आ जाए तो उसकी जीत ही बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जाती है।… राजनीतिक विश्लेषकों के लिए एक बहुत बड़ी घटना के तौर पर देखा जाता है। गुजरात एक अपवाद है।

….95 में बीजेपी अकेले चुनाव लड़ी और 121 सीट पर दो तिहाई बहुमत के साथ जीती। 98 में जीते, 2002 में जीते, 2007 में जीते, 2012 में जीते…हर लोकसभा में जीते…विधानसभा में जीते। लगातार इतनी जीत और सिर्फ और सिर्फ विकास पर जीत हिंदुस्तान के राजनीतिक इतिहास में नई दिशा दिखाने वाली घटना है।’

‘गुजरात से मिली दोहरी खुशी’

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनके लिए व्यक्तिगत रूप से गुजरात के चुनाव का विजय एक दोहरी खुशी का विजय है। उन्होंने कहा, ‘आमतौर पर लंबे अरसे तक जो व्यक्ति मुखिया रहा हो, उसके वहां से हटने के बाद गिरावट आने की चर्चा होती है…तुलना होने लगती है लेकिन आज मेरे लिए खुशी है कि तीन-साढ़े तीन साल पहले गुजरात छोड़ने के बाद गुजरात के कार्यकर्ताओं ने राज्य को संभाला है…यह मेरे लिए दोहरी खुशी का माहौल है कि मेरे जाने के बाद मेरे साथी गुजरात का विकास करने में कोई कमी नहीं रखे हैं। इसलिए मैं गुजरात बीजेपी के नेताओं, कार्यकर्ताओं को हृदय से विशेष बधाई देता हूं।’

‘बीजेपी के खिलाफ नाकाम हुए षडयंत्र’

नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘हम पर चारों ओर से हमले हो रहे थे, दुष्प्रचार की आंधी चल रही थी…इतनी ताकत लगी हुई थी कि एक बार गुजरात में गिरा दो…कैसे-कैसे षडयंत्र किए गए…चालाकियां की गईं…विकास के संबंध में राजी-नाराजी तो हो सकती है लेकिन कोई विकास का मजाक उड़ाए..यह हिंदुस्तान के सार्वजनिक जीवन में होता नहीं है।’ उन्होंने कहा कि गुजरात की जनता ने इन सभी का जवाब दे दिया है।

इशारों में EVM पर सवाल उठाने वालों पर हमला

प्रधानमंत्री ने इशारों-इशारों में EVM पर सवाल उठाने वालों पर हमला करते हुए कहा कि उन्हें हार को स्वीकार करने का साहस दिखाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि जबसे एग्जिट पोल आया तबसे कुछ लोग इतने परेशान थे कि गुजरात को तो बीजेपी फिर से जीतने जा रही है तो उस खुशी को कम करने के लिए पिछले 3 दिनों से भरपूर तैयारियां चल रही थी।

बीजेपी की पराजय से आनंदित होने वाले लोगों की बड़ी संख्या हो सकती है…लेकिन अगर कोई दल लगातार विकास के मुद्दे पर विजयी हो रहा है तो कभी न कभी इस विजय और अपनी हार को स्वीकार करने का साहस रखना चाहिए हमारे मित्रों को।’

‘देश को विकास के रास्ते से डीरेल करने की कोशिश न हो’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘2014 मई में लोकसभा के चुनाव के बाद इस देश में विकास का एक माहौल बना है, विकास की भूख जगी है, सरकारों की प्राथमिकता विकास बना है…बीजेपी आपको पसंद हो या न हो लेकिन देश को विकास के रास्ते से डीरेल करने की कोशिश मत कीजिए।

जिस दिन बीजेपी हार जाए आप महीने भर जश्न मनाइए..देश को नुकसान नहीं है लेकिन जब बीजेपी विकास के मुद्दे पर जीत रही है…ऐसी सरकार है जिसमें निर्णय लेने की ताकत है, जिसकी नीयत में खोट नहीं है, नीतियां साफ-सुथरी हैं, एक ऐसी सरकार है जो सबका साथ, सबका विकास का मंत्र लेकर चले हैं। यह विजय इसी बात पर जनता की मोहर है।’

’30 साल बाद गुजरात में जातिवाद का जहर घोलने की कोशिश हुई’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं आज यहां से विशेष रूप से गुजरात के नागरिकों को एक बात जरूर कहना चाहता हूं….30 साल पहले गुजरात में जातिवाद का जहर इतना घोला गया था…उस जहर को निकालते-निकालते मेरे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं के 30 साल खप गए हैं तब जाकर गुजरात को जातिवाद के जहर से मुक्ति मिली।

सबका साथ, सबका विकास और विकास की दिशा में आगे चले…इसी भाव से गुजरात चला लेकिन सत्ता भूख के कारण चुनाव में कुछ लोगों ने पिछले कुछ महीनों में फिर से एक बार जातिवाद के बीज बोने के प्रयास किए लेकिन गुजरात की जनता ने उसे नकार दिया। इसके लिए गुजरात की जनता अभिनंदन की पात्र है। लेकिन गुजरात की जनता को पहले से ज्यादा जागरूक होना होगा।’

‘एक भी गुजराती हमसे अलग नहीं हो सकता’

मोदी ने कहा कि सभी गुजरातवासियों को एक साथ आकर गुजरात को आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा, ‘इस जीत के बाद भी मैं गुजरात की जनता से यह कहने का साहस कर रहा हूं कि मेरे गुजरात के भाइयों-बहनों साढ़े 6 करोड़ गुजराती एक हैं, नेक हैं और आगे बढ़ने का विश्वास लेकर चलने वाले लोग हैं…

किसने क्या किया भूल जाएं…हर एक को गले लगाएं…एक भी गुजराती हमसे अलग नहीं हो सकता है…आइए फिर से मिलजुलकर आगे बढ़ें…जहर बोने वाले आगे भी अपनी हरकतें छोड़ेंगे नहीं लेकिन गुजरात के लोग एकता के साथ आगे बढ़ें।

LEAVE A REPLY