Home Uttarakhand Capital Doon उत्तराखंड में सक्षम रोजगार का ठोस विकल्प औद्योगिक हेम्प परियोजना

उत्तराखंड में सक्षम रोजगार का ठोस विकल्प औद्योगिक हेम्प परियोजना

112
0
SHARE
uknews-With the CEO of Indian Industrial Hemp Association CM.
भारतीय औद्योगिक भांग एसोसिएशन के पदाधिकारी सीएम के साथ।
देहरादून। भारतीय औद्योगिक भांग एसोसिएशन (आईआईएचए) और उत्तराखंड सरकार ने औद्योगिक भांग की खेती को बढ़ावा देने के लिए पायलट प्रोजेक्ट लॉन्च किया, जिसे दुनिया भर में ट्रिलियन डॉलर की फसल माना जाता है। आईआईएचए के संरक्षण में भांग के पौधे उगाने का उत्तराखंड सरकार का यह प्रोजेक्ट भारत में औद्योगिक भांग उगाने का सबसे पहला लाइसेंसी पायलट प्रोजेक्ट है।

मुख्यमंत्री की अभिनव पहल पर दिल से धन्यवाद

इंडियन इंडस्ट्रियल हेम्प असोसिएशन द्वारा 140 व्यक्तियों को रोजगार सृजित करने हेतु पौड़ी जनपद में क्रियान्वित की जाने वाली औद्योगिक हेम्प परियोजना पर जिले की जनता ने मुख्यमंत्री की इस अभिनव पहल पर दिल से धन्यवाद दिया है।
इस परियोजना की सफलता के बाद उम्मीद की जा रही है कि अब घर छोड़कर गए लोग फिर वापस आकर अपने खेतों को आबाद कर सकेंगे।

पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन रोका जा सकेगा

इंडियन इंडस्ट्रियल हेम्प असोसिएशन के अध्यक्ष रोहित शर्मा ने कहा, “परियोजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन से अगले पांच सालों में एक लाख रोजगार का सृजन किया जा सकेगा। इसके साथ ही राज्य में औद्योगिक हेम्प उत्पादों से संबंधित लघु उद्योगों में भी रोजगार के अवसर सृजित होंगे, जिससे पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन रोका जा सकेगा। इस अग्रणी सोच और परियोजना को संचालित करने हेतु पौड़ी जनपद की समस्त जनता ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी और पौड़ी जनपद के जिलाधिकारी सुशील कुमार को धन्यवाद ज्ञापित किया है।“
“उत्तराखंड में औद्योगिक भांग की खेती को कानूनी रूप से वैध बनाकर उत्तराखंड सरकार ने राज्य में उभरती हुई भांग की इंडस्ट्री को बढ़ावा दिया है। इसके अलावा आईआईएचए की ओर से औद्योगिक भांग की खेती को वैध बनाने पर दूसरे राज्यों की नजर है और वह इसे काफी उत्सुकता से देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि भांग हमारा पारंपरिक और धार्मिक पौधा है। आज से पूरा सम्मान मिल रहा है और भांग की खेती पर सकारात्मक रूप से चर्चा हो रही है।
भांग की खेती से फायदा लेने के साथ हमें इसकी खेती से उत्पन्न होने वाली चुनौतियों के बारे में सोचना चाहिए। हाल ही में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार डॉ. के. एस. पंवार ने कम टीएचसी की भांग उगाने के लिए उत्तराखंड सरकार और आईआईएचए के बाच साझेदारी में एक पायलट प्रोजेक्ट की घोषणा की।