Home News National भारत के लिए चिंतित करने वाला अनुमान

भारत के लिए चिंतित करने वाला अनुमान

औसत से कम बारिश और 'एल नीन्यो' का खतरा

139
0
SHARE
uknews-monsoon
भारत के लिए चिंतित करने वाला अनुमान

नई दिल्ली: 2017 के मॉनसून को लेकर पहला अनुमान सामने आ गया है। स्काईमेट ने इस बार कमजोर मॉनसून का अनुमान जताया है। इस बार मॉनसून में औसत (LPA) के 95 फीसदी ही बारिश का अनुमान है। लंबी अवधि का औसत जून से लेकर सितंबर तक चार महीने के दौरान हुई बारिश से निकाला जाता है। भारत के मॉनसून के लिए यह LPA 887 एमएम है और इस बार इससे कम बारिश की आशंका है। इसके अलावा ‘एल नीन्यो’ की भी आशंका जताई गई है।

स्काईमेट का अनुमान

स्काईमेट का यह अनुमान भारत के लिए चिंतित करने वाला है। ऐसा इसलिए क्योंकि भारत में होने वाली 70 फीसदी बारिश इन्हीं 4 महीनों के दौरान होती है। भारत की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था के लिए भी यह संकेत खतरनाक है, क्योंकि खरीफ की फसल की बुआई इसी बारिश के भरोसे होती है।

खेती अधिकतर मॉनसून पर ही आधारित

भारत में खरीफ की खेती अधिकतर दक्षिणी-पश्चिमी मॉनसून पर ही आधारित होती है। ऐसे में अगर औसत से 5 फीसदी कम बारिश हुई तो खेती पर असर पड़ना स्वाभाविक है। कमजोर मॉनसून का सबसे ज्यादा खतरा देश के पश्चिमी हिस्सों, मध्य भारत के आसपास के हिस्सों और प्रायद्वीपीय भारत के प्रमुख हिस्सों पर है।
देश के इन हिस्सों में मॉनसून के मुख्य चारों महीनों में औसत से कम बारिश की आशंका है। केवल पूर्वी भारत के हिस्सों खासकर ओडिशा, झारखंड और पश्चिमी बंगाल में अच्छी बारिश की संभावना जताई गई है।

‘एल नीन्यो’ का भी खतरा

स्काईमेट ने अपने अनुमान में ‘एल नीन्यो’ के खतरे की भी आशंका जताई है। स्काईमेट के मुताबिक मॉनसून के सेकंड हाफ में ‘एल नीन्यो’ की 60 फीसदी आशंका जताई गई है। इसकी वजह से मॉनसून के लंबी अवधि के 3 महीनों यानी जुलाई, अगस्त और सितंबर में कम बारिश का अनुमान जताया गया है।

जानें क्या है एल नीन्यो

‘एल नीन्यो’ स्पेनिश भाषा का शब्द है, जिसका मतलब होता है ‘छोटा लड़का’। पहली बार 1923 में सर गिल्बर्ट थॉमस वॉकर ने एल-नीन्यो की स्टडी की थी। अल-नीन्यो के कारण दुनिया में बाढ़, सूखा जैसे अनेक मौसमी बदलाव आते हैं। मोटे तौर पर कहें तो हवाओं की दिशा बदलने, कमजोर पड़ने और समुद्र के सतही पानी के तापमान में बढ़ोतरी में एल-नीन्यो की खास भूमिका है।

असर दूर-दूर तक

इससे बारिश के प्रमुख क्षेत्र बदल जाते हैं। नतीजन, दुनिया के ज्यादा बारिश वाले इलाकों में कम और कम बारिश वाले इलाकों में ज्यादा बारिश होने लगती है। कभी-कभी इसके उलट भी होता है। हर 10 साल में 2 या 3 बार एल-नीन्यो की बदौलत प्रशांत महासागर के पानी का तापमान कहीं-कहीं 10 से. तक बढ़ जाता है। सबसे ज्यादा तापमान पेरू के तट पर होता है, लेकिन असर दूर-दूर तक नजर है।

इससे साउथ अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया से लेकर साउथ-ईस्ट एशिया तक की ओर बहने वाली हवाओं की रफ्तार बेहद धीमी पड़ जाती है और इन क्षेत्रों में सूखे के हालात बन जाते हैं।

LEAVE A REPLY