Home Ghar Parivar नई रिसर्च का दावा, बुढ़ापे में बढ़ता है प्यार

नई रिसर्च का दावा, बुढ़ापे में बढ़ता है प्यार

बुढ़ापे में रिश्तों के मायने अलग

108
0
SHARE
uknews-old couple
नई रिसर्च का दावा, बुढ़ापे में बढ़ता है प्यार

प्यार की उम्र और सीमा को लेकर हाल ही में सामने आई एक रिसर्च के मुताबिक, बुढ़ापे में भी लोग अपने जीवनसाथी के साथ सेक्स करने की इच्छा रखते हैं। कुछ लोगों को 70 या 80 के पड़ाव में बीमारियां जकड़ लेती हैं जिसका असर उनके प्यार पर पड़ता है। लेकिन ज्यादातर लोग 90 की उम्र में भी सेक्स करना चाहते हैं।

जीवनसाथी के साथ समय गुजारने की चिंता

रिसर्च में करीब 7000 लोगों से बात की गई जिनकी उम्र 50 से ज्यादा थी। यूके स्थित अंतर्राष्ट्रीय दीर्घायु केंद्र की इस रिसर्च का कहना है कि उम्र के साथ प्यार का रूप भी बदलने लगता है। वृद्धावस्था में इंसान को सबसे ज्यादा अपने जीवनसाथी के साथ समय गुजारने की चिंता होती है।

बुढ़ापे में रिश्तों के मायने अलग

यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर एंड मैनचेस्टर मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का मानना है कि बुढ़ापे में रिश्तों के मायने अलग होते हैं। इसलिए वहां दो लोगों के बीच प्यार भी काफी गहरा होता है।

‘हाऊ लॉन्ग विल आई लव यू’

इस रिसर्च को ‘हाऊ लॉन्ग विल आई लव यू’ का नाम दिया गया है। रिसर्च ऑथर डॉ डेविड ली बताते हैं, ‘हम जानते हैं कि सकारात्मक भावनाएं और प्यार भरा जीवन वृद्धावस्था में एक अलग ही खुशी देता है।

भागदौड़ भरी जिंदगी से काफी आराम

ज्यादातर बुजुर्ग बीमार होने के बाद भी अपने प्यार को लेकर काफी खुश रहते हैं। उन्हें वक्त मिलता है अपने जीवनसाथी से बात करने का, उसको किस करने का। इसकी एक वजह व्यस्क जीवन का तनाव कम होना भी है। बुढ़ापे में पहुंचने के बाद इंसान को भागदौड़ भरी जिंदगी से काफी हद तक आराम मिलता है।

भावनाओं को जाहिर करना थोड़ा मुश्किल

हालांकि रिसर्च में कुछ लोगों ने यह भी कहा है कि 50 की उम्र पार करने के बाद उन लोगों ने अपने जीवनसाथी के साथ प्यार करना कम किया है। इसकी वजह है घर में मौजूद बच्चे। बुजुर्ग कपल के लिए सबके सामने अपनी भावनाओं को जाहिर करना थोड़ा मुश्किल भी होता है।

LEAVE A REPLY