Home Uttarakhand Garhwal अब पीजी की भी पढ़ाई रायपुर डिग्री कॉलेज में

अब पीजी की भी पढ़ाई रायपुर डिग्री कॉलेज में

169
0
SHARE

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रायपुर डिग्री कॉलेज को स्नातकोत्तर महाविद्यालय के रूप में इस सत्र से उच्चीकृत किया जाएगा। मालदेवता में महाविद्यालय के नवनिर्मित भवन के लोकार्पण पर यह घोषणा की। सीएम ने महाविद्यालय में शौर्य दीवार का भी लोकार्पण किया। इस सत्र से यहां कला संकाय में पीजी की कक्षाएं प्रारंभ होंगी। अगले सत्र से ग्रेजुएशन में यहां संस्कृत विषय भी होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी महाविद्यालयों को स्तरीय बनाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने महाविद्यालय में चार अतिरिक्त कक्ष बनाने की भी घोषणा की। स्थानीय लोगों की मांग पर सीएम ने घोषणा की कि रायपुर डिग्री कॉलेज का नाम अब राजकीय महाविद्यालय रायपुर-मालदेवता होगा।

सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि दुरूह क्षेत्र की छात्राओं की सहूलियत के लिए यहां कक्षाएं सुबह नौ बजे शुरू की जाएं। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि राज्य सरकार उच्च शिक्षा को मजबूत आधार देना का हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने स्किल इंडिया व स्वच्छ भारत अभियान पर भी बात की।

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि महाविद्यालय के लिए ट्रासपोर्टेशन व्यवस्थित किया जाएगा। विधायक उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि कॉलेज का निर्माण रायपुर-मालदेवता के आसपास के दूरस्त क्षेत्रों के बच्चों के लिए एक अहम कदम है। इन क्षेत्र की जो बेटियां दूर पढ़ने नहीं जा सकती, वह यहां पढ़ पाएंगी। उन्होंने महाविद्यालय को फर्नीचर के लिए विधायक निधि से दस लाख रुपये देने की घोषणा की।

महाविद्यालय में संस्कृत के साथ ही भूगोल व समाजशास्त्र शुरू करने व खैरी के लिए उन्होंने ट्यूबवेल की मांग भी मुख्यमंत्री से की। कार्यक्रम स्थल पर मुख्यमंत्री ने वहां मौजूद जनसमूह के साथ प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम सुना। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा डॉ. रणवीर सिंह, शिक्षा निदेशक वीएस मलकानी, ब्लाक प्रमुख बीना बहुगुणा, महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. अंजू अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

प्रदेशभर में बनेंगे 500 नई टाउनशिप

सीएम ने कहा कि गांवों से पलायन रोकने को राज्य सरकार न्याय पंचायत स्तर पर महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने की योजना तैयार कर रही है। एक स्वरोजगार केंद्र पर तकरीबन 75 लाख रुपये का खर्च आएगा। इसके अलावा संस्कृति ग्राम का भी निर्माण होगा। जहा पर्यटक प्रदेश की समृद्ध विरासत से रूबरू होंगे। प्रदेशभर में 500 नई टाउनशिप बनाने की बात भी उन्होंने कही।

पहाड़ से हो रहे पलायन का दर्द सीएम की बात में भी झलका। मालदेवता से करीब 9 किमी दूर तिमली गांव का उदाहरण देते कहा कि इसे लेकर मन में कसक है। रायपुर से मेरा भी लगाव है और कभी अर्से पहले तिमली गया था। यह पूरा गांव खाली हो चुका है। इसे फिर बसाना है। गांव की सड़क स्वीकृत हो चुकी है और इसका निर्माण जल्द पूरा कराएंगे।

बहुआयामी बनें छात्र

सीएम ने कहा कि डिग्री कॉलेजों में 877 शिक्षकों की भर्ती के लिए करीब 54 हजार ने आवेदन किया है। युवा यह समझ लें कि प्रतिस्पर्धा कड़ी है। उन्हें बहुआयामी बनना होगा। सिर्फ किताबी ज्ञान और डिग्री पर ध्यान न दें। जिंदगी का लक्ष्य स्पष्ट रखें और उसे पाने का प्रयास करें।

LEAVE A REPLY