Home News International न्यू जीलैंड संसद ने एक नदी को ‘जिंदा’ माना

न्यू जीलैंड संसद ने एक नदी को ‘जिंदा’ माना

दिए कानूनी अधिकार

86
0
SHARE
uknews-new zeland river
न्यू जीलैंड संसद ने एक नदी को 'जिंदा' माना

वेलिंगटन: न्यू जीलैंड में एक नदी को कानूनी तौर पर जीवित मान लिया गया है। इस नदी को एक जिंदा व्यक्ति होने का कानूनी दर्जा दिया गया है और इसके मुताबिक अधिकार भी दिए गए हैं।

वाननुई नदी की काफी अहमियत

न्यू जीलैंड के उत्तरी द्वीप पर स्थित वाननुई नदी माओरी जनजाति के लोगों के लिए काफी अहमियत रखती है। इस नदी के साथ माओरी जनजाति के लोगों की आध्यात्मिक आस्थाएं जुड़ी हैं। यह पहला मौका है जब दुनिया में किसी नदी को जीवित व्यक्ति का दर्जा मिला है।

जीवित व्यक्ति का दर्जा

न्यू जीलैंड की संसद ने एक बिल पास कर वाननुई नदी को एक जीवित व्यक्ति का दर्जा दिया है। नदी अब अपने प्रतिनिधियों के द्वारा अपना पक्ष भी रख सकती है। एक प्रतिनिधि को माओरी जनजाति के लोग और दूसरे प्रतिनिधि को यहां की राजशाही चुनेगी। माओरी जनजाति के लोग पहाड़ों और समुद्र की तरह इस नदी को भी जिंदा मानते हैं।

अनूठे संबंधों को पहचान स्वीकृति दिए जाने की कोशिश

1870 के दशक से ही माओरी जनजाति के लोग वाननुई नदी के साथ अपने अनूठे संबंधों को पहचान और स्वीकृति दिए जाने की कोशिश कर रहे हैं। इन कोशिशों को अब जाकर यह अनोखा पड़ाव हासिल हुआ है कि संसद ने इसे एक जीवित व्यक्ति के समान मानते हुए कानूनी अधिकार दिए हैं। वाननुई नदी न्यू जीलैंड की तीसरी सबसे लंबी नदी है।

LEAVE A REPLY