Home National Uttarakhand नये पंचायती राज एक्ट ने बजाई खतरे की घंटी

नये पंचायती राज एक्ट ने बजाई खतरे की घंटी

75
0
SHARE

रुड़की में उत्तराखंड पंचायती राज एक्ट में ब्लाक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष को हटाने का प्रावधान तो उत्तर पंचायत पंचायत राज एक्ट के अनुसार ही दो तिहाई सदस्यों का है लेकिन ग्राम पंचायत में ग्राम प्रधान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की प्रक्रिया का सरलीकरण कर दिया है। यह सरलीकरण अब कई ग्राम प्रधानों के गले की फांस बनने जा रहा है।

उत्तराखंड के नये पंचायती राज एक्ट ने ग्राम प्रधानों के लिये खतरे की घंटी बजा दी है। आम जनता के कामों को प्राथमिकता देने के बजाय केवल ग्राम पंचायत सदस्यों को साध रहे ग्राम प्रधानों को जनता की नाराजगी भारी पड़ने वाली है। अब ग्राम प्रधान को हटाने के लिये ना तो सदस्यों की जरूरत है और ना ही दो तिहाई बहुमत की। आधे से एक वोट अधिक पड़ने पर ही प्रधान की कुर्सी चली जाएगी। इसके चलते प्रधानों में हड़कंप मचा हुआ है।

दरअसल पुराने एक्ट में ग्राम पंचायत सदस्यों का विशेष महत्व था। इतना ही नहीं प्रधान को हटाने के लिये कुल मतदाताओं का दो तिहाई बहुमत जरूरी है लेकिन अब ऐसा नहीं है। गांव के पांच लोग ही जाकर एक चैथाई लोगों का हस्ताक्षर युक्त प्रार्थना पत्र यदि जिला पंचायत राज अधिकारी को दे देते हैं और आधे से अधिक मतदाता प्रधान के खिलाफ वोट देते हैं तो प्रधान की कुर्सी चली जाएगी।

जिला पंचायत राज अधिकारी आरसी त्रिपाठी ने बताया कि नये एक्ट के बारे में जानकारी करने के लिये हर रोज ग्रामीण उनके दफ्तर आ रहे हैं। कुछ और भी संशोधन हुये है।

बोढ़ाहेड़ी के प्रधान पर भी खतरा मंडराया

बहादराबाद विकास खंड के बोढ़ाहेड़ी ग्राम पंचायत के प्रधान के खिलाफ अविश्वास पर मतदान का प्रस्ताव जिला पंचायत राज अधिकारी ने स्वीकार कर लिया है। जिला पंचायत राज अधिकारी आरसी त्रिपाठी ने बताया कि 20 अगस्त को बोढ़ाहेड़ी के ग्राम प्रधान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर प्राथमिक विद्यालय में सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हो जाएगी।

लक्सर के सहायक विकास अधिकारी पंचायत भरत सिंह रावत को पीठासीन अधिकारी नामित किया गया है। इसके अलावा लक्सर, नारसन और रुड़की विकास खंड के 11 ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों की ड्यूटी भी अविश्वास प्रस्ताव पर होने वाले मतदान कार्य में लगा दी गई है।

LEAVE A REPLY