SHARE

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वतंत्रता दिवस पर परेड ग्राउंड में ध्वजारोहण करते हुए देश और प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दींं। इस दौरान उन्‍होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को नमन किया। वहीं राज्यपाल डा. कृष्ण कांत पाल ने भी देश और प्रदेशवासियोंं को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए राजभवन में ध्वजारोहण किया।

इस अवसर पर उन्होंने राज्य वासियों को खुले में शौच मुक्त होने पर बधाई दी, हालांकि इस दौरान राज्यपाल ने स्वच्छता को लेकर अपनी बात रखते हुए कहा कि राज्य में स्वच्छता के क्षेत्र में कुछ ज्यादा बेहतर काम नहीं हुआ है।

भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखंड पर है फोकस 

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि सरकार उत्तराखंड को भ्रष्टाचार से मुक्त करना  चाहती है, लेकिन इसमें जनता का सहयोग बेहद जरुरी है। सीएम ने एनएच घोटाले और राशन उपलब्धता का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा कि सरकारी दफ्तरों में बायोमैट्रिक सिस्टम डेवलप करने पर भी सरकार ने फोकस किया है। सीएम ने सभी विभागों के कार्यों में पारदर्शिता बढ़ाने पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि सभी विभागों को फेसबुक से जोड़ा जाएगा, जिससे लोगों की समस्याओं को सोशल मीडिया के जरिए भी सुना जा सके।

देश और राज्य के लिए जीने की जरूरत

सीएम त्रिवेंद्र रावत ने यह भी कहा कि हमेंं अपने देश और राज्य के लिए जीने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमने संकल्प लिया है कि आने वाले 5 सालों में ज्यातर लोगों को घर दिए जाएंगे और बिजली की सुविधा दी जाएगी। सीएम ने अपने संबोधन में युवाओं को देश का भविष्य बताया।

जनता के सुझावों से आगे बढ़ेगा विकास

उनका कहना है कि सरकार को जनता से अच्छे सुझावों की उम्मीद है, जिससे उत्तराखंड के विकास को आगे बढ़ाया जा सके। सीएम ने पीएम मोदी की ऑल वेदर रोड योजना का भी जिक्र किया। रेल मार्ग के कार्यों पर संतोष व्यक्त करते हुए सीएम त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि मेट्रो को भी जल्द प्रारंभ करने और जौलीग्रांट को इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने की भी सहमति बन गई है।

उत्तराखंड में आजादी के जश्न को बड़ी ही धूमधाम से मनाया गया। 71वें स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने परेड ग्राउंड में ध्वजारोहण करते हुए आजादी के लिए अपनी कुर्बानी देने वाले शहीदों को नमन किया और कहा कि सरकार एक-एक दिन को राज्य के विकास में लगाएगी।

2022 के संकल्प पर किए हस्ताक्षर

इससे पहले सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वतंत्रता संग्राम सैनानियों से शिष्टाचार भेंट की। साथ ही 2022 के संकल्प पर हस्ताक्षर किए। इस संकल्प पत्र में स्वच्छ भारत, गरीबी मुक्त भारत, आतंकवाद मुक्त भारत, भ्रष्टााचार मुक्त भारत, जातिवाद मुक्त भारत का संकल्प है। सीएम ने प्रदेश के 58 पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों को मुख्यमंत्री सराहनीय सेवा पदक, उत्कृष्ट और सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह के साथ ही पुलिस पदक से सम्मानित किया।

उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पुलिस कर्मी सम्मानित

इससे पहले पुलिस मुख्यालय पर डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी ने ध्वजारोहण किया। डीजीपी रतूड़ी ने उपस्थित समस्त पुलिस बल को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलायी। इस अवसर पर डीजीपी ने कहा कि पुलिस कर्मियों की सुविधाओं को बढ़ाने की हर संभव कोशिश की जाएगी। उन्होंने पुलिस कर्मियों को संयम बरतने की सलाह दी और कहा कि इसके लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया जाएगा। इस अवसर पर उन्होंने उत्कृष्ट कायों के लिए राष्ट्रपति सम्मान और मुख्यमंत्री के सराहनीय सेवा पदक प्राप्त करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को पुलिस महानिदेशक के उत्कृष्ट, सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह के पदकों सेे नवाजा।

स्कूली बच्चों में भरा है देशभक्ति का जज्बा  

वहीं प्रदेश के सभी स्कूलों में देशभक्ति के कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। बच्चों में देशभक्ति का जज्बा देखते ही बन रहा था। प्रदेशभर के सभी जिलों में स्कूली छात्र-छात्राएं प्रभात फेरियां निकाली। स्कूलों में देशभक्ति के जरिए स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया गया। बच्चों के साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों ने भी आजादी के इस जश्न में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। चमोली जिले में जिलाधिकारी ने बच्चों के साथ प्रभात फेरी में शामिल होकर उनका उत्साह वर्धन किया। वहीं अल्मोड़ा जिले में विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने माल रोड पर सांस्कृतिक जुलुस निकाला।

कोटद्वार में फीका रहा आजादी का जश्न

पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार में आजादी का जश्न फीका रहा। यहांं आर्इ आपदा के कारण स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कोर्इ प्रभात फेरी नहीं निकाली गर्इ। साथ ही मालवीय उद्यान में सार्वजनिक ध्वजारोहण कार्यक्रम को भी स्थगित कर दिया गया।

स्वंत्रता सेनानियों के नाम पर होगा सचिवालय के भवनों का नाम 

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सचिवालय में भवनों के नाम महान व्यक्तियों के नाम पर रखने की घोषणा की है। सीएम ने कहा कि यह स्वतंत्रता दिवस के पावन पर्व पर राज्य की जनता की ओर से महान शख्सियतों को श्रद्धांजलि है। आपको बता दें इनमें सचिवालय के मुख्य भवन को एपीजे कलाम के नाम से जाना जाएगा। मुख्य सचिव ब्लॉक को नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, एसबीआइ भवन पश्चिमी ब्लॉक को स्वर्गीय सोबन सिंह जीना भवन, और एफआरडीसी भवन को स्वर्गीय देवेंद्र शास्त्री भवन के नाम से जाना जाएगा।

LEAVE A REPLY