Home Uttarakhand Capital Doon पहाड़ों ने ओढ़ी बर्फ की चादर,ठिठुरन बढ़ी

पहाड़ों ने ओढ़ी बर्फ की चादर,ठिठुरन बढ़ी

6884
0
SHARE
uknews-Snowy view in the mountainous area
पर्वतीय क्षेत्र में हुई बर्फवारी का दृश्य।
देहरादून। ज्यूं-ज्यूं जनवरी माह अंतिम दिनों की ओर बढ़ रहा है वैसे-वैसे प्रदेश में मौसम और भी सर्द होता जा रहा है। देहरादून एवं मसूरी में कुछ ऐसा ही देखने को मिला। बीती रात साढ़े ग्यारह बजे फिर मौसम ने करवट बदली और शहर में झमाझम बारिश होने लगी। न्यूनतम पारा 8.4 सेल्यिसस से छह डिग्री सेल्सियस तक लुढ़कने से ठिठुरन भी बढ़ गई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ प्रभावी है। मौसम का मिजाज और तल्ख होगा।

मौसम का मिजाज और तल्ख होगा

प्रदेश के कुछ जिलों में तीन दिन तक बारिश एवं बर्फबारी हो सकती है। मसूरी में सीजन का पहला हिमपात हुआ है। जिससे पर्यटकों ने यहां आना शुरू कर दिया है । बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्राी और यमुनोत्राी के साथ ही हेमकुंड साहिब में जमकर बपर्फबारी हुई, वहीं निचले स्थानों में बारिश रुक रुककर हो रही है। विभाग के अनुसार मौसम का मिजाज और तल्ख होगा।

चारों धम में हिमपात

मौसम की चेतावनी के मद्देनजर जिला प्रशासन ने देहरादून, उत्तरकाशी, पौड़ी, रुद्रप्रयाग, हरिद्वार और टिहरी के स्कूलों में अवकाश रहा। मसूरी के लाल टिब्बा में मौसम का पहला हिमपात हुआ। धनोल्टी, बुरांशखंडा, सुरकंडा, नागटिब्बा में बपर्फबारी हुई। मसूरी में तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर बीते रोज से घने बादल छाए हुए थे। बीती शाम से ही देहरादून, हरिद्वार, मसूरी और पौड़ी में बारिश शुरू हो गई, वहीं चारों धम में हिमपात हो रहा है।

भारी बर्फबारी के आसार

केदारनाथ में करीब चार फीट बर्फ गिर चुकी है। बर्फबारी के कारण पुनर्निर्माण कार्य भी प्रभावित हुए हैं। वहां मौजूद करीब चार सौ श्रमिक दिन भर अपने टेंटों में ही कैद रहे। उत्तरकाशी की हर्षिल घाटी और दयारा बुग्याल में भी बपर्फबारी हुई। मौसम विभाग के अनुसार न्यूनतम तापमान में चार से पांच डिग्री सेल्सियस का इजाफा हुआ। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग और पिथौरागढ़ में भारी बपर्फबारी के आसार हैं। इसके अलावा देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, नैनीताल और ऊध्मसिंहनगर में बारिश के साथ ओले भी गिर सकते हैं।

प्रदेश में है वेस्टर्न डिस्टर्बेंस

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ वेस्टर्न डिस्टर्बेंस है। यह स्थिति करीब एक सप्ताह तक बनी रह सकती है। कुमाऊं में भी मौसम का मिजाज बदला। तराई व भाबर में बारिश हुई। अल्मोड़ा जिले के रानीखेत के स्याहीदेवी, चैबटिया तथा द्वाराहाट में दूनागिरि, भरतकोट व पांडवखोली की चोटियों पर हिमकण गिरने शुरू, हल्की बर्फबारी भी हुई। वहीं, पिथौरागढ़ नगर के निकट सौरलेख, ध्वज, थलकेदार, चंडाक, चैकोड़ी में हिमपात हुआ। बर्फबारी के कारण गंगोत्री हाईवे गंगनानी से आगे बंद हो गया।
धरासू यमुनोत्री राडी टाप व राणा चट्टðी से आगे बंद है। वहीं, पुरोली मोरी मार्ग जरमोला के पास मार्ग बंद हैं। मोरी जखोल मार्ग नैटवाड से आगे मार्ग बंद है। उत्तरकाशी लंबगांव मोटर मार्ग चैरंगी के पास हिमपात के कारण बंद है। हर्षिल घाटी, खरसाली, ओसला गंगाड के साथ भटवाडी, रैथल, बार्सू क्षेत्र में जमकर बर्फबारी हुई।