Home News National जज लोया की मौत पर सुप्रीम कोर्ट का एसआईटी जांच से इनकार

जज लोया की मौत पर सुप्रीम कोर्ट का एसआईटी जांच से इनकार

25
0
SHARE
uknews-justice loya case

बीजेपी और कांग्रेस एक-दूसरे पर हो गई हमलावर

नई दिल्ली: सीबीआई जज लोया की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट के एसआईटी जांच से इनकार के बाद इस मुद्दे पर बीजेपी और कांग्रेस एक-दूसरे पर हमलावर हो गई हैं। जहां एक तरफ कांग्रेस इस मामले में स्वतंत्र जांच की मांग पर अड़ी हुई है, वहीं दूसरी तरफ बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस राजनीतिक लड़ाई को कोर्ट के रास्ते से लड़ना चाहती है।

 

राजनीतिक लड़ाइयों को राजनीति के मैदान में ही लड़ें: रविशंकर

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि यह केस पब्लिक इंट्रेस्ट में नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी के इंट्रेस्ट में था। इसके जरिए कांग्रेस पार्टी बीजेपी और खास तौर पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की इमेज खराब करना चाहती थी। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अदालत ने कहा है कि राजनीतिक लड़ाइयों को राजनीति के मैदान में ही लड़ें।

इसका साफ मतलब है कि इस केस को हमारे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ राजनीतिक लड़ाई के तौर पर लड़ा गया। केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘मैं राहुल गांधी से आग्रह करूंगा कि वे अदालत के गलियारों के जरिए राजनीतिक लड़ाई न लड़ें।’

रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘हमारे नेता अब तक इस मामले में इसलिए नहीं बोल रहे थे क्योंकि यह मामला कोर्ट में था। राहुल गांधी इस दौरान राष्ट्रपति से मिले कई तरह के आरोप लगाए। हम इस मामले में फैसले का इंतजार कर रहे थे।’ उन्होंने कहा कि इस मामले में चार न्यायिक अधिकारियों की रिपोर्ट की जांच हुई और कोर्ट ने पाया कि इसमें प्रक्रिया का पालन हुआ था।

मौत संदिग्ध है, इसलिए जांच जरूरी: कांग्रेस

बता दें कि गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस ने 10 पॉइंट गिनाकर कहा कि उनकी मौत संदिग्ध है, इसलिए जांच जरूरी है। कांग्रेस की तरफ से गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जज लोया के संबंध में अपनी तरफ से तथ्यों को रखा। कांग्रेस ने बीजेपी के आरोपों पर कहा कि अफसोसजनक है कि जज लोया की मौत बीजेपी के लिए जश्न मनाने का मामला है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने सबसे पहले 10 पॉइंट गिना दावा किया कि जज लोया की मौत संदिग्ध है।

कांग्रेस ने कहा कि संदेह की इतनी परिस्थितियों के बाद स्वतंत्र जांच से ही सच पता लगाया जा सकता है। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस का भी हवाला देते हुए कहा कि खुद न्यायपालिका ने इस केस का जिक्र किया और माना था कि सब ठीक नहीं है।

जजों के बयान पर संदेह खड़ा करने की कोई वजह नहीं: सुप्रीम कोर्ट

गौरतलब है कि गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया की मौत की एसआईटी जांच का आदेश देने ने इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले को राजनीति के तहत उठाया गया और जजों के बयान पर संदेह खड़ा करने की कोई वजह नहीं है। इसके बाद बीजेपी कांग्रेस पर हमलावर हो गई। बीजेपी ने इस पूरे मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरते हुए कहा है कि वह उस लॉबी के पीछे थे, जिसने कोर्ट में राजनीतिक लड़ाई लड़ी।