Home Sports सौरभ गांगुली ने लॉर्ड्स टेस्ट में दो स्पिनर्स के साथ उतरने की...

सौरभ गांगुली ने लॉर्ड्स टेस्ट में दो स्पिनर्स के साथ उतरने की दी सलाह

30
0
SHARE
uknews-sourav ganguly

नई दिल्ली: इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट सीरीज खेल रही टीम इंडिया भले ही एजबेस्टन में सीरीज का पहला टेस्ट मैच हार गई, लेकिन पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली मानते हैं कि एजबेस्टन टेस्ट टेस्ट क्रिकेट के बेहतरीन उदाहरण में से एक है।

एक कॉलम में सौरभ गांगुली ने लिखा, ‘भारत-इंग्लैंड के बीच खेला गया सीरीज का पहला टेस्ट इस बात का शानदार उदाहरण है कि खेल का ऑरिजनल वर्जन में आखिर कैसे किसी भी क्रिकेटर का सही टेस्ट होता है। टेस्ट क्रिकेट खेल का कांटा पेंडुलम की तरह ‘कभी इधर, कभी उधर’ बदलता रहता है। मैच के अंत में वही टीम टॉप पर पहुंचती है, जो अंत तक अपना धैर्य बनाए रखकर जीत के लिए जरूरी काम करती है।’

विराट कोहली की भी जमकर प्रशंसा की

सौरभ गांगुली ने यहां भारतीय कप्तान विराट कोहली की भी जमकर प्रशंसा की, जिन्होंने पहले टेस्ट में 200 रन (149 और 51) बनाए। गांगुली ने अपने लेख में लिखा, मुश्किल परिस्थितियों में शानदार प्रदर्शन करने के लिए उनका जज्बा और दृढ़-संकल्प हमेशा ही काबिलेतारीफ रहा है। उनके शॉट सिलेक्शन और खेल किसी भी हिस्से में बोलरों पर हावी होकर खेलने की उनकी आदत उन्हें आसाधारण बनाती है। वह दुनिया के नंबर 1 बल्लेबाज हैं।

कप्तान की तरह संघर्ष करना होगा

बर्मिंगम में उनके (विराट) लिए परिस्थितियां आसान नहीं थीं, लेकिन कोहली ने यह साबित कर के दिखाया कि जब परिस्थितियां आपके अनुकूल न हों, तब भी आप रन बना सकते हैं। उनका यह जज्बा टीम के दूसरे खिलाड़ियों के लिए एक सीख है कि उन्हें भी अपने कप्तान की तरह संघर्ष करना होगा।

टीम के खिलाड़ियों का कॉन्फिडेंस जगाएं

मैं व्यक्तिगत तौर पर मानता हूं कि विराट कोहली की टीम में जो बैटिंग लाइनअप है वह इंग्लिश परिस्थितियों में भी रन बना सकती है।’ गांगुली ने आगे कहा, ‘बतौर कप्तान विराट को अपनी टीम के स्तर को उठाना है। उन्हें चाहिए कि वह अपनी टीम के खिलाड़ियों का कॉन्फिडेंस जगाएं और उनके लिए इस दौरे पर यही एक बड़ा चैलेंज होगा।

भारतीय गेंदबाजों की भी जमकर प्रशंसा की

दादा ने यहां भारतीय गेंदबाजों की भी जमकर प्रशंसा की, जिन्होंने इंग्लैंड के पारियों को 287 और 180 रन पर समेट दिया। खासतौर से रविचंद्रन अश्विन के प्रदर्शन से गांगुली खासा प्रभावित हैं। उन्होंने लिखा, ‘भारत के लिए उसकी बोलिंग पोजिटिव चीज रही, सभी बोलर्स ने अच्छा काम किया, खासतौर से अश्विन ने। उन्होंने अपनी बोलिंग बहुत विविधता दिखाई और अब वह विपक्षी टीम के लिए बाकी सीरीज में भी एक चुनौती रहेंगे।’

इसके साथ-साथ गांगुली ने इंग्लिश रणनीति पर भी चर्चा करते हुए भारत को लॉर्ड्स टेस्ट में दो स्पिनर्स के साथ उतरने की सलाह दी है। गांगुली ने लिखा कि इंग्लैंड ने अपने युवा खिलाड़ी ओलि पोप को मौका दिया है, जो इंग्लिश सिलेक्टर्स की सोची-समझी रणनीति है, जिससे वह ऑफ स्पिन के अटैक को काउंटर करने पर दांव खेल रही है।

कुलदीप यादव एक बेहतर चॉइस होंगे

ऐसे में भारत को अपने दूसरे स्पिनर्स को टीम में मौका देना चाहिए। लॉर्ड्स का इतिहास रहा है कि यहां बॉल स्पिन होता है। जहां तक मैं सोचता हूं, तो इसके लिए कुलदीप यादव एक बेहतर चॉइस होंगे। गांगुली ने कहा कि भारत को किसी भी सूरत में अपने 5 बोलर वाले विकल्प से समझौता नहीं करना चाहिए।

लॉर्ड्स में अपने डेब्यू मैच में शतक जड़ने वाले सौरभ गांगुली ने टीम सीरीज में 1-0 से पिछड़ चुकी टीम इंडिया के लिए कहा कि लॉर्ड्स टेस्ट में टीम को दमखम दिखाना होगा। इंग्लैंड बहुत आसानी से भारत को यहां मौका नहीं देना चाहेगा। अगर भारत की बैटिंग यहां चली, तो वह मैच में जीत दर्ज कर सकता है और एक बार फिर फ्लॉप हुए, तो मेहमान टीम के लिए चीजें बदलने में देर नहीं लगेगी।