Home News National कर्नाटक की सत्ता हथियाने के लिए ‘बैक डोर ऐंट्री’ की कोशिश

कर्नाटक की सत्ता हथियाने के लिए ‘बैक डोर ऐंट्री’ की कोशिश

20
0
SHARE
uknews-yedurappa and kumar swami

बेंगलुरु: कर्नाटक की राजनीति में हर पल घटनाक्रम बदल रहे हैं। कांग्रेस बीजेपी पर विधायकों को तोड़ने की कोशिश करने का आरोप लगा रही है, वहीं बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस सत्ता हथियाने के लिए ‘बैक डोर ऐंट्री’ की कोशिश कर रही है। विधायक दल की बैठक के बाद जेडीएस के कुमारस्वामी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर उनके विधायकों को 100 करोड़ रुपये और मंत्रिमंडल में जगह का लालच देने का आरोप लगाया है।

विधायक खरीदने की कोशिश

कुमारस्वामी ने बीजेपी से सवाल किया कि बीजेपी के पास विधायकों को खरीदने के लिए पैसे कहां से आए, इसकी जांच होनी चाहिए। जिस पैसे का इस्तेमाल गरीबों के लिए होना चाहिए, वह पैसा विधायकों को खरीदने में इस्तेमाल हो रहा है।

‘कांग्रेस का आरोप गलत’

बीजेपी नेता और केंद्रीयमंत्री प्रकाश जावडेकर ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 100 करोड़ रुपये ऑफर करने की बात पूरी तरह गलत है। कांग्रेस और जेडीएस इसी तरह से राजनीति करती हैं। जवाडेकर ने कहा, ‘हम पूरी तरह नियमों के साथ आगे बढ़ रहे हैं, हमने राज्यपाल को सरकार बनाने के लिए अपना दावा पेश किया है। हम सरकार बनाने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं।’

कांग्रेस ने कही धरने की बात

कांग्रेस के सीनियन नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यदि कांग्रेस-जेडीएस को राज्यपाल द्वारा निमंत्रण नहीं दिया जाता है तो कल सभी विधायक राजभवन के सामने धरने पर बैठेंगे। हमारे सांसद भी इस धरने में शामि हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के पास सरकार बनाने के लिए सभी जरूरी नंबर हैं, जबकि बीजेपी के पास जरूरी नंबर नहीं हैं।

येदियुरप्पा लेंगे शपथ?

बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा ने राज्यपाल वुजुभाई वाला से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद राजभवन से बाहर निकले येदियुरप्पा सरकार बनाने को लेकर आश्वस्त नजर आए। उन्होंने बेहद आत्मविश्वास से कहा कि वह सरकार बनाने जा रहे हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि वह कल शपथ लेंगे।

कांग्रेस के विधायक एकजुट

इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर मिली कि कांग्रेस के तीन विधायकों ने पार्टी के फैसले के खिलाफ जाने का फैसला किया है, ये विधायक पार्टी की बैठक में भी शामिल नहीं हुए। इस संबंध में जब सिद्धारमैया से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि हमारे सभी विधायक एकजुट हैं।