Home Uttarakhand Garhwal केदार यात्रा से पूर्व व्यवस्थाएं चाक-चैंबद करने के निर्देश

केदार यात्रा से पूर्व व्यवस्थाएं चाक-चैंबद करने के निर्देश

25
0
SHARE
uknews-dm rudraprayag
केदारनाथ पैदल मार्ग का जायजा लेते डीएम घिल्डियाल।

रुद्र्रप्रयाग। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने केदारनाथ से गौरीकुण्ड तक पैदल यात्रा मार्ग का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने मार्ग पर धीमी गति से कार्य किए जाने पर नाराजगी जताते हुए कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।

कोई ठेकेदार लेट-लतीफी करता है तो उसे हटाया जाय

जिलाधिकारी ने लोनिवि अधिकारियों को निर्देशित किया कि यदि पैदल मार्ग पर चले रहे निर्माण कार्यों मे कोई ठेकेदार लेट-लतीफी करता है तो उसे हटाया जाय और उसकी जगह दूसरा ठेकेदार लगाया जाय। हर हाल में पैदल मार्ग यात्रा शुरू होने से पूर्व पूरी तर चाक-चैंबंद होना चाहिए।

पैदल मार्ग की धीमी गति पर डीएम ने जताई नाराजगी

जिलाधिकारी ने कहा कि पैदल मार्ग पर जहां-जहां निर्माण कार्य चल रहे हैं वहां जेई की तैनाती नियमित रूप से होनी चाहिए, जो जेई मौके पर नहीं रहते हैं, उनके खिलाफ सस्पेंड की कार्यवाही की जाय। रूद्रा प्वाइंट से भैरव गधेेरे तक मात्र बीस लेबर ही कार्य कर रहे हैं। अभी लगभग छः सौ मीटर का कार्य होना है।

जिलाधिकारी ने कहा कि लेबरों की संख्या बढाई जाय, ताकि समय पर कार्य पूरा किया जा सके। कई जगहों पर पैदल मार्ग पर मानकों से कम चैडाई होने पर जिलाधिकारी ने सम्बंधित विभागीय अधिकारियों को पूरी गुणवत्ता ओर मानकों के अनुरूप कार्य करवाने के निर्देश दिए।

समय रहते कार्य पूरा करने के निर्देश

पैदल मार्ग के निरीक्षण के दौरान छानी कैंप के नीचे पैदल मार्ग पर निर्माण बेहद धीमी गति में पाया गया, जिस पर जिलाधिकारी ने ठेकेदार को निर्देश दिए कि यदि तीन दिन के भीतर कार्य पूरा नहीं हुआ तो हटा दिए जाएंगे और अन्य ठेकेदार को काम दिया जाएगा। रूद्रा प्वाइंट से भीमबली तक पूरे मार्ग 16 ठेकेदार कार्य कर रहे हैं, जिलाधिकारी ने पूरे मार्ग का निरीक्षण किया और समय रहते कार्य पूरा करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी ने नए मेडिकल प्वाइंट का निरीक्षण भी किया। इसके साथ ही उन्होंने पैदल मार्ग पर खाली पडी जगहों पर दुकाने बनाने के भी निर्देश दिए।

जिलाधिकारी ने किया केदारनाथ-गौरीकुंड पैदल का जायजा

विद्युत विभाग को निर्देशित किया कि रास्ते में कई जगह विद्युत लाइन अण्डग्राउण्ड करने के बाद उस स्थान पर रास्ते को ठीक नहीं किया गया है, तत्काल रास्ते को ठीक किया जाय। जिलाधिकारी ने गौरीकुण्ड में सिंचाई विभाग के कार्यो का भी निरीक्षण किया। इसके साथ ही उन्होंने सोनप्रयाग में पत्थर काटने की मशीनों का निरीक्षण किया और कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। जिसके बाद जिलाधिकारी ने लोनिवि निरीक्षण भवन गुप्तकाशी में अधिकारियों की बैठक ली।

जिलाधिकारी ने लोनिवि को निर्देशित किया कि केदारनाथ से गौरीकुण्ड तक पैदल मार्ग पर चल रहे निर्माण कार्यों की नियमित रिपोर्ट भेंजे। ठेकेदारों को लेबर बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यात्रा शुरू होने में मात्र एक माह का समय बाकी है और ऐसे में तेजी से कार्य किया जाय ताकि व्यवस्थाएं पूरी तरह दुरूस्त हो सके।