Home National Uttarakhand आईएमए पीओपीः 383 कैडेट्स भारतीय सेना के अंग बने

आईएमए पीओपीः 383 कैडेट्स भारतीय सेना के अंग बने

24
0
SHARE
uknews-pop at ima
पासिंग आउट परेड में शामिल कैडेट।

74 विदेशी कैडेट भी पास आउट हुए

देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए)  की पासिंग आउट परेड (पीओपी) में अंतिम पग भरते ही 383 नौजवान भारतीय सेना का हिस्सा बन गए। इसके साथ ही 74 विदेशी कैडेट भी पास आउट हुए। नेपाल के सेना प्रमुख जनरल राजेन्द्र क्षेेत्री ने पासिंग आउट परेड की सलामी ली।
सुबह 6 बजकर 35 मिनट पर मार्कर्स कॉल के साथ परेड का आगाज हुआ। कंपनी सार्जेंट मेजर शुभम सेहरावत, निर्मल सिंह, दिपेंद्र परमार, हर्ष प्रताप, सतेंद्र कुमार, कुणाल किशोर सिंह, प्रदीप सुबैया व नितेश ठाकुर ने ड्रिल स्क्वायर पर अपनी-अपनी जगह ली। एडवांस कॉल के साथ ही छाती ताने देश के भावी कर्णधार असीम हिम्मत और हौसले के साथ कदम बढ़ाते परेड के लिए पहुंचे।

कदम-कदम बढ़ाए जा, खुशी के गीत गाए जा

कदम-कदम बढ़ाए जा, खुशी के गीत गाए जा..ये जिंदगी है कौम की, तू कौम पे लुटाए जा।’ आत्मविश्वास से लबरेज 457 जेंटलमैन कैडेट ड्रिल स्क्वायर पर पहुंचे, तो लगा कि विशाल सागर उमड़ आया है। एक साथ उठते कदम और गर्व से तने सीने दर्शक दीर्घा में बैठे हरेक शख्स के भीतर ऊर्जा का संचार कर रहे थे।

नेपाल के सेना प्रमुख जनरल राजेन्द्र क्षेत्री ने ली परेड की सलामी

uknews-General Rajendra Area of Nepal Army Chief inspecting the passing out parade
पासिंग आउट परेड का निरीक्षण करते नेपाल के सेना प्रमुख जनरल राजेन्द्र क्षेेत्री।
परेड कमांडर आदित्य निखरा ने ड्रिल स्क्वायर पर जगह ली। कैडेट्स ने शानदार मार्चपास्ट से दर्शक दीर्घा में बैठे हर शख्स को मंत्रमुग्ध कर दिया। इधर, युवा सैन्य अधिकारी अंतिम पग भर रहे थे, तो आसमान से हेलीकाप्टरों के जरिये उन पर पुष्प वर्षा हो रही थी। परेड की सलामी लेने के बाद नेपाल के सेना प्रमुख ने कैडेट्स को ओवरऑल बेस्ट परफॉरमेंस व अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा।

उत्तर प्रदेश के 63 कैडेट

इस दौरान आरट्रैक कमांडर ले जनरल मनोज मुकुंद नरवाने,आइएमए के कमान्डेंट ले. जनरल एसके झा, डिप्टी कमान्डेंट मेजर जनरल जेएस नेहरा समेत कई सेवारत व सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी उपस्थित रहे। ऐतिहासिक ड्रिल स्क्वायर पर कदमताल करने वालों में सर्वाधिक 63 कैडेट उत्तर प्रदेश के हैं।

उत्तराखंड के 33 कैडेट 

वहीं, उत्तराखंड के 33, हरियाणा के 49, बिहार के 35,पंजाब के 29, हिमाचल प्रदेश व महाराष्ट्र के 22-22, राजस्थान के 20, जम्मू-कश्मीर के 17, मध्य प्रदेश के 14, पश्चिम बंगाल के 12, तमिलनाडु के 09, कर्नाटक व झारखंड के 8-8, मणिपुर व दिल्ली के 7-7, केरल के 05, आंध्र प्रदेश के 03, तेलंगना व असम के चार-चार, उड़ीसा के तीन, मिजोरम व चंडीगढ़ के 2-2, गुजरात, छत्तीसगढ़, मेघालय, नागालैंड व त्रिपुरा के एक-एक कैडेट परेड का हिस्सा बने।

विदेशी कैडेटों में अफगानिस्तान के सर्वाधिक 45 कैडेट

विदेशी कैडेटों में अफगानिस्तान के सर्वाधिक 45, तजाकिस्तान के 13, भूटान के 09, लेसोथो के तीन, तंजानिया के 2, नाइजीरिया व किर्गिस्तान के एक-एक कैडेट शामिल हैं। इस दौरान आरट्रैक कमांडर ले जनरल मनोज मुकुंद नरवाने, आईएमए के कमान्डेंट ले. जनरल एसके झा समेत कई सेवारत व सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी उपस्थित रहे।