Home Fitness दांतों के पीलेपन को भी बिल्कुल न करें नजरअंदाज

दांतों के पीलेपन को भी बिल्कुल न करें नजरअंदाज

128
0
SHARE
uknews-yellowness teeth
दांतों के पीलेपन को भी बिल्कुल न करें नजरअंदाज

चेहरे को सुंदर बनाने के लिए लोग तरह-तरह के ट्रीटमेंट लेते हैं, लेकिन दांत और मसूड़ों पर उतना फोकस नहीं करते। यही वजह है कि हर पांच में दो लोगों को किसी न किसी तरह की दांत की समस्या होती है। लोगों की अनदेखी ही बड़ी समस्याओं का कारण बनती है। इसलिए दांतों की दिक्कत को अनदेखा न करें।
ओपीडी क्लिनिक में हमने इस बार केजीएमयू की डेंटल इंप्लाट यूनिट के इंचार्ज प्रो. यूएस पाल से पाठकों की दांतों की समस्याओं से संबंधित सवालों के जवाब पूछे।

सवाल

मेरी उम्र 27 साल है। मेरा पूरा मुंह नहीं खुलता है। दांत में इन्फेक्शन की समस्या है। कुछ खा-पी नहीं पा रहा हूं। डेंटिस्ट से ट्रीटमेंट करवाने पर भी कोई खास फायदा नहीं हुआ।
सुरेश मिश्र, पीली कॉलोनी

जवाब

यह समस्या अक्ल दाढ़ की ठीक से सफाई न होने की वजह से है। इसमें संक्रमण होने पर यह गले और फेफड़ों तक पहुंच जाता है। तुरंत किसी डेंटल सर्जन से ट्रीटमेंट करवाएं। दांत को पूरा निकलवाने में ही भलाई है।

सवाल

मेरे भाई का निचला जबड़ा ऐक्सिडेंट में टूट गया था। जबड़े को ऑपरेशन करके जोड़ा तो गया, लेकिन मुंह टेढ़ा खुलता है। इससे खाने-पीने में परेशानी होती है।
महेंद्र अग्निहोत्री, चौक

जवाब

चोट लगने के बाद हड्डी जुड़ते समय कुछ खून के थक्के भी जम जाते हैं, जिसे न निकालने से परेशानी होती है। इन्हीं थक्कों की वजह से हड्डी सही स्थान पर नहीं जुड़ती। इसके लिए दोबारा सर्जरी करनी पड़ती है। आपको मैक्सिलोफेसियल एक्सपर्ट की मदद लेनी होगी।

सवाल

मैं पान-मसाला बहुत खाता था। इसकी वजह से मुंह के भीतर छोट-छोटे दाने और धब्बे बन गए हैं। मुंह खोलने में परेशानी होती है, पानी तक ठीक से नहीं पिया जाता।
निरंकार रस्तोगी, अलीगंज

जवाब

यह मुंह का कैंसर भी हो सकता है। इसकी जांच करवानी चाहिए। यह शुरुआती स्तर का है तो लेजर टेक्निक से इलाज संभव है। इसमें खर्च भी कम होगा, लेकिन समस्या काफी समय से होने पर लम्बा इलाज करवाना पड़ सकता है।

सवाल

मेरा बेटा 10 साल का है। कई बार साइकल से गिरने से जबड़े में चोट लगी। इसकी वजह से मुंह खोलने में दिक्कत और कुछ चबाने पर सिर में दर्द होता है।
श्रीदेवी दीक्षित, लालकुआं

जवाब

चोट को नजरअंदाज करने से समस्या गंभीर हुई है। अंदरूनी चोट लगने से ही दिक्कत बढ़ी है। मैक्सिलोफेशल एक्सपर्ट की सलाह लें, सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ेगी।दवाओं से इलाज संभव है।

सवाल

मैं 18 साल की हूं। मेरी ठुड्डी चेहरे के अनुपात में छोटी है। इससे चेहरा अच्छा नहीं दिखता है। हीनभावना महसूस होती है।
अंकिता दुबे, डालीबाग

जवाब

मैक्सिलोफेशल एक्सपर्ट से ट्रीटमेंट करवाना पड़ेगा। सर्जरी कर चिन के साइज को ठीक किया जा सकता है। इस सर्जरी का कोई निशान भी नहीं दिखाई देगा।

सवाल

मेरे मुंह में तीन महीने से गांठ हैं। खाने-पीने में परेशानी और गले में चुभन होती है।
अनुज श्रीवास्तव, इंदिरानगर

जवाब

चेहरे और तालू का रंग बदलना, जीभ सफेद होना, गांठ होना ओरल कैंसर के लक्षण हैं। तुरंत मैक्सिलोफेशल एक्सपर्ट की मदद लें। कैंसर की दशा में ऑपरेशन के जरिए इलाज संभव है।

सवाल

मेरे दांत में पीलापन बहुत है। जबड़ों से खून निकलता है, दांत भी हिलते हैं। कभी-कभी काफी दर्द होता है।
प्रवीण राय, गोमतीनगर

जवाब

दांतों की ठीक से सफाई न करने की वजह से इन्फेक्शन हो सकता है। मसूड़ों में इन्फेक्शन होने से दांत भी कमजोर हो जाते हैं। डेंटिस्ट की मदद लें, सलाह पर ऐंटिबायॉटिक्स का कोर्स करें, दिन में दो बार ब्रश जरूर करें।

सवाल

कुछ भी खाने पर खट्टापन महसूस होता है, लेकिन मेरे दांत और मसूड़े स्वस्थ दिखते हैं। दो बार ब्रश भी करता हूं।
संकेत त्रिपाठी, अलीगंज

जवाब

ऐसा रक्त पहुंचाने वाली वेसल्स में दिक्कत की वजह से होता है। शुरुआती अवस्था में दवाओं से इलाज संभव है, लेकिन समस्या ज्यादा दिनों से है तो ऑपरेशन करना पड़ सकता है। बॉलिवुड ऐक्टर सलमान खान को भी यह समस्या है।

LEAVE A REPLY