Home News National जेल में थोड़े समय और ‘अच्छे दिन आएंगे: आसाराम

जेल में थोड़े समय और ‘अच्छे दिन आएंगे: आसाराम

38
0
SHARE
uknews-asaram-bapu

जोधपुर: जोधपुर की जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे आसाराम का एक कथित ऑडियो वायरल हो रहा है जिसमें स्वयंभू बाबा फोन पर एक व्यक्ति को यह कहते हुए सुनाई दे रहा है कि जेल में वह थोड़े समय रहेगा और ‘अच्छे दिन आएंगे।’

15 मिनट की यह ऑडियो क्लिप रिकॉर्ड

जोधपुर केंद्रीय कारागार के डीआईजी विक्रम सिंह के अनुसार, आसाराम की शुक्रवार को टेलिफोन पर बातचीत के दौरान 15 मिनट की यह ऑडियो क्लिप रिकॉर्ड की गई होगी। इससे दो दिन पहले जोधपुर की एक अदालत ने एक नाबालिग लड़की से बलात्कार करने का दोषी ठहराया और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

 

साबरमती आश्रम के एक ‘साधक’ से की बात

जेल अधिकारियों की अनुमति से फोन किया गया था। सिंह ने कहा, ‘कैदियों को एक महीने में 80 मिनट के लिए उनके द्वारा दिए गए दो नंबरों पर फोन करने की अनुमति दी जाती है। उसने शुक्रवार को शाम साढे़ छह बजे साबरमती आश्रम के एक ‘साधक’ से बात की।

टेलिफोन पर बातचीत उपदेश जैसी

हो सकता है कि तब यह बातचीत रिकॉर्ड की गई हो और वायरल हो गई हो।’ टेलिफोन पर यह बातचीत उपदेश जैसी लग रही है। इस एकतरफा बातचीत में आसाराम अपने समर्थकों का शांति बनाए रखने और फैसले के लिए जोधपुर ना आने के लिए आभार जता रहा है।

वह ऑडियो क्लिप में कथित रूप से कह रहा है, ‘हमें कानून एवं व्यवस्था का सम्मान करना चाहिए। मैंने भी यही किया।’ उसने दावा किया कि कुछ लोगों ने उनके आश्रम को बदनाम करने का अभियन चला रखा है और वे इस पर कब्जा करना चाहते हैं।

उसने कहा, ‘ऐसे उकसाने वाली बातों या आश्रम के लेटर हेड पर जो कुछ भी लिखा जा रहा है उससे बहक ना जाए।’ सह आरोपी शिल्पी और शरत का जिक्र करते हुए आसाराम ने कहा कि वह जेल से सबसे पहले उनकी रिहाई का बंदोबस्त करेगा क्योंकि यह ‘माता-पिता का कर्तव्य है कि वे पहले अपने बच्चों के बारे में सोचें।’

शिल्पी और शरत को 20 साल जेल की सजा

शिल्पी और शरत को विशेष अदालत से 20 साल जेल की सजा मिली है। आसाराम ने कहा, ‘अगर शिल्पी और शरत की रिहाई के लिए और वकीलों की जरूरत पड़ी तो वो भी किया जाएगा। इसके बाद बापू जेल से बाहर आएगा।’

उसने कहा , ‘अगर निचली अदालत में कोई गलती हुई है तो उसे सुधारने के लिए ऊपरी अदालतें हैं।’ आसाराम ने कहा, ‘सच छिपता नहीं है और झूठ के पैर नहीं होते। जो भी आरोप हैं वे फालतू हैं।’ बातचीत के अंत में वह शरत से बात करने के लिए कहता है तो बोलता है कि जेल में चिंता की कोई बात नहीं है।