Home National Uttarakhand गूगल ने डूडल बनाकर चिपको आंदोलन की जननी गौरा देवी को दी...

गूगल ने डूडल बनाकर चिपको आंदोलन की जननी गौरा देवी को दी श्रद्धांजलि

49
0
SHARE

देहरादून। चिपको आंदोलन की जननी गौरा देवी को गूगल ने डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी है। साथ ही चिपको आंदोलन की 45वीं सालगिरह मनाई है। गूगल ने अपने डूडल में न सिर्फ गौरा देवी बल्कि उन सभी महिलाओं को सलाम किया है जिन्होंने अपनी परवाह किए बिना, जान हथेली पर रखकर अपने जंगलों की रक्षा की।

जुबां पर पहला नाम आएगा गौरा देवी का

जब भी बात होगी पर्यावरण संरक्षण की तो जुबां पर पहला नाम आएगा गौरा देवी का। क्योंकि गौरा देवी ही वो महिला हैं, जिन्होंने जंगलों को अपना माना और अपनी जान की परवाह किए बिना जंगलों को बचाने में लग गई। बात जनवरी 1974 के आसपास की है। जब चमोली जिले के रैंणी गांव में चिपको आंदोलन की शुरुआत हुई।

महिलाओं ने जंगलों को बचाने के लिए चलाया था चिपको आंदोलनuknews-chipko movement

चिपको आंदोलन एक ऐसा आंदोलन जिसकी गूंज चारों दिशाओं में आग की तरह फैलने लगी। ये वो आंदोलन था जो गौरा देवी के नेतृत्व में यहां की महिलाओं ने जंगलों को बचान के लिए चलाया था। दरअसल, उन दिनों रैंणी गांव में पेड़ों के कटान के लिए छपान हुआ था। इसकी भनक किसी तरह से स्थानीय लोगों को लग गई और उन्होंने इसका विरोध शुरू कर दिया।

गौरा देवी ने इसको लेकर गांव की महिलाओं के साथ बातचीत की और तय किया कि किसी भी हालत में जंगल काटने नहीं दिए जाएंगे। लेकिन गौरा देवी की इस योजना की भनक ठेकेदारों को लग गई और उन्होंने महिलाओं के खिलाफ षड़यंत्र रचना शुरू कर दिया।

ठेकेदारों ने पेड़ कटानों के लिए वो दिन चुना जब गांव के सभी आदमी चमोली में सड़क निर्माण के दौरान हुई क्षति का मुआवजा लेने गए हुए थे। उन्होंने सोचा कि अब गांव में सिर्फ महिलाएं ही हैं तो ये सही रहेगा पेड़ों के कटान के लिए। लेकिन महिलाओं ने भी ठान ली थी कि वो जंगलों का नहीं कटने देंगे। फिर क्या था गौरा देवी के साथ सभी महिलाएं जंग के मैदान में उतर गईं।

26 मार्च का दिन महिलाओं के लिए था बहुत बड़ा

26 मार्च का वो दिन रैंणी गांव की महिलाओं के लिए बहुत बड़ा था, क्योंकि उन्हें अकेले ही अपने जंगलों के लिए लड़ना था। लेकिन कहते हैं ना कि जिनके हौसले बुलंद होते हैं उन्हें डिगा पाना आसान नहीं होता है। ठेकेदारों को पेड़ों को काटने के लिए जंगल में आता देख गौरा देवी के साथ ही सभी महिलाएं एक साथ आ र्गइं।

जंगल हमारा मायका है, इसे मत काटोuknews-GauraDevi

जंगल हमारा मायका है, इसे मत काटो। ये शब्द थे गौरा देवी के और उन सभी महिलाओं के जो इस कटान के विरोध में जंगल पहुंच चुकी थीं। उन्होंने पहले तो मजदूरों से विनती की और कहा कि वो पेड़ों को ना काटें। लेकिन ठेकेदार और उसके आदमियों ने एक ना सुनी और उन्हें धमकाने लगे। लेकिन महिलाएं भी डटी रहीं।

उनकी इस निडरता को देख ठेकेदार और उसके आदमियों ने उनको बंदूक दिखाकर धमकाना चाहा तो गौरा देवी ने छाती तानकर कहा मारो गोली और काट लो हमारा मायका। उनके इस साहस को देखते हुए ठेकेदार और उसके आदमी सहम गए।

पेड़ काटने हैं तो साथ हमें भी काट लो: गौरा देवी

वहीं गौरा देवी भी ये बात समझ गई थी कि वो मजदूरों से उलझकर उनका मुकाबला नहीं कर सकती। तो वो पेड़ों से चिपक गईं और कहा कि अगर पेड़ काटने हैं तो उनके साथ हमें भी काट लो। अब ठेकेदार आग बबूला हो गया। उसने और उसके आदमियों ने गौरा देवी के मुंह पर थूक दिया। लेकिन उन्होंने अपना धैर्य नहीं खोया और इसी तरह डटी रहीं।

आंदोलन को चिपको आंदोलन का दिया गया नाम

आखिरकार गौरा देवी और उनकी साथी महिलाओं की हिम्मत के आगे ठेकेदार और उसके आदमी हार गए और उन्होंने वहां से निकलना ही ठीक समझा। पेड़ों को बचाने के लिए उनसे इसतरह से चिपकने वाले इस आंदोलन को चिपको आंदोलन का नाम दिया गया। इस आंदोलन ने सरकार के साथ-साथ वन प्रेमियों और वैज्ञानिकों का ध्यान भी अपनी ओर खींचा।

रैंणी गांव की गौरा देवी से चिपको वुमेन

साथ ही गौरा देवी के इस साहस को देखकर उन्हें रैंणी गांव की गौरा देवी से चिपको वुमेन बना दिया गया। आज उसी शख्सियत को श्रद्धांजलि देने के लिए गूगल ने डूडल बनाया है। जिसमें महिलाएं पेड़ों को घेरखर खड़ी हैं।