Home News National मनोहर पर्रीकर ने संभाली गोवा के मुख्यमंत्री पद की कमान

मनोहर पर्रीकर ने संभाली गोवा के मुख्यमंत्री पद की कमान

सिर्फ गोवा के विकास के लिए भाजपा को समर्थन

54
0
SHARE
uknews-manohar parrikar
मनोहर पर्रीकर ने संभाली गोवा के मुख्यमंत्री पद की कमान

नई दिल्‍ली, जेएनएन। मनोहर पर्रीकर मंगलवार की शाम चौथी बार गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इसके साथ ही, एमजीपी के मनोहर अजगांवकर और निर्दलीय विधायक रोहन खुंटे ने भी गोवा सरकार में मंत्री पद की शपथ ली।

पर्रीकर को राज्यपाल ने सदन में अपना बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था।जिस वक्त पणजी में मनोहर पर्रीकर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली उस समय गोवा के मुख्यमंत्री लक्षीकांत पारसेकर भी वहां पर मौजूद थे।

सिर्फ गोवा के विकास के लिए भाजपा को समर्थन

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पर्रीकर ने कहा कि गोवा में भाजपा को सरकार गठन करने के लिए जो समर्थन दिया गया है वह सिर्प विकास के लिए है। कोई भी विधायक कांग्रेस को समर्थन नहीं करना चाहते थे।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि यदि आपके पास सरकार बनाने का समर्थन था तो फिर आप राज्यपाल के पास क्यों नहीं गए। पर्रीकर ने आगे कहा कि मैं मानता हूं कि गोवा में किसी एक पार्टी को बहुमत नहीं मिला है। लेकिन, 22 विधायकों के एक साथ आने से इनका वोट शेयर पर्याप्त है। यह चुनाव के बाद का गठबंधन है।

16 मार्च तक साबित करना होगा बहुमत

हालांकि, कांग्रेस की तरफ से डाली गई याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट की तरफ से पर्रीकर को 16 मार्च तक विधानसभा में अपना बहुमत साबित करने का आदेश दिया गया है। कोर्ट ने यह आदेश कांग्रेस की उस याचिका पर दिया है जिसमें उन्‍होंने गवर्नर के फैसले पर सवाल उठाया था।

इस याचिका में कहा गया था कि राज्‍य में सबसे बड़ी पार्टी होने के बाद भी उन्‍हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया, जबकि भाजपा को सरकार बनाने के लिए कम नंबर होने के बाद भी आमंत्रित कर लिया गया।

कांग्रेस को कोर्ट से फटकार

आदेश देने से पूर्व कांग्रेस को कोर्ट से फटकार भी खानी पड़ी। कांग्रेस द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने साफतौर पर कहा कि ‘जो बातें आप यहां कह रहे हैं उन्‍हें गोवा में गवर्नर के समक्ष क्‍यों नहीं कहा’।

कोर्ट ने यह भी जानना चाहा कि आखिर सबसे बड़ी पार्टी होने के बाद भी काग्रेस ने गवर्नर के समक्ष अपना दावा पेश क्‍यों नहीं किया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कांग्रेस द्वारा उठाए मुद्दों का एक ही हल है कि जल्दी से जल्दी फ़्लोर टेस्ट हो।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह भी कि आखिर कांग्रेस जितने विधायकों का दावा कर रही है वह कहां है। इसके साथ ही कोर्ट ने यह भी माना कि नंबर वास्‍तव में सरकार बनाने के लिए काफी अहम है।

कांग्रेस द्वारा यह याचिका गवर्नर के उस फैसले के खिलाफ की गई है जिसमें राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने मनोहर पर्रीकर को राज्य का मुख्यमंत्री नियुक्त किया है।

LEAVE A REPLY