Home Uttarakhand Garhwal बरसात के कारण एक दर्जन लिंक मार्ग पड़े हैं बंद

बरसात के कारण एक दर्जन लिंक मार्ग पड़े हैं बंद

74
0
SHARE
uknews-Vehicle trapped in jam due to closing of link route
लिंक मार्ग के बंद होने से जाम में फंसे वाहन।

राजमार्ग पर जगह-जगह डेंजर जोनों से खतरा

रुद्रप्रयाग। लगातार हो रही बरसात के बाद बुधवार को सूर्यदेव ने दर्शन दिये ऐसे में जिले की जनता ने राहत की सांस ली। पिछले कई दिनों से हो रही बरसात के कारण जन जीवन काफी प्रभावित हो गया है। भूस्खलन के कारण जहां राष्ट्रीय राजमार्ग रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड के कई जगहों पर खतरा बना हुआ है तो ग्रामीण लिंक मार्गों पर सफर करना किसी खतरे से खाली नहीं है। पता नहीं कब कहां से मौत बनकर बरस जाय, कहा नहीं जा सकता।

लिंक मार्गों पर सफर करना हो रहा मुश्किल

पिछले कई दिनों से हो रही बरसात के कारण जिले के एक दर्जन लिंक मार्ग भी बंद पड़े हुए हैं, जिन्हें खोलने में विभाग को समय लग रहा है।
दरअसल, बरसात के कारण राजमार्ग और लिंक मार्गों को भारी नुकसान हुआ है। रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे के जगह-जगह डेंजर जोन निकल आये हैं, जबकि सड़क धंसने और पुश्ते टूटने से लिंक मार्ग बंद पड़े हुए हैं। जिले के एक दर्जन लिंक मार्ग अभी भी बंद पड़े हुए हैं, जिन्हें खोलने में विभाग की मशीने लगी हुई हैं। मोटरमार्ग बंद होने से ग्रामीण जनता को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
कई मोटरमार्ग तो पिछले दो सप्ताह से बंद हैं, जिससे जनता का संपर्क ब्लाॅक एवं जिला मुख्यालय से कटा हुआ है। क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति भी ठप पड़ी हुई है।
जिले में आफत की बारिश ने जमकर कोहराम मचाया है। ग्रामीण क्षेत्रों को जोड़ने वाले मोटरमार्ग पिछले दो सप्ताह से बंद होने के कारण बीमार लोगों को चिकित्सालय पहुंचाने में दिक्कतें हो रही हैं, जबकि क्षेत्रों में आवश्यक सामग्री की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। ग्रामीण जनता को पैदल सफर तय करना पड़ रहा है।
बारिश से बंद पड़े जैली-मरगांव, छेनागाड़-बक्सीर, सिंराई-नन्दवाणगांव, रैंतोली-जसोली, तिलवाड़ा-बावई, जाबरी-जयकंडी, बलसुण्डी-अखोड़ी, लमगौंडी-देवली, मनसूना-जुगासू, तुनेटा-भणगा, छेनागाड़-उच्छोला मोटरमार्ग को खोलने के प्रयास जारी है। विभाग की मशीने मोटरमार्ग पर रात-दिन कार्य करने में लगी है। बुधवार को बरसात के थमने और सूरज के निकलने के बाद निर्माण कार्य में लगे मजदूरों ने राहत की सांस ली और तेजी से कार्य किया। अगर इसी तरह दो-चार दिन मौसम साफ रहा तो जिले के सभी मोटरमार्गों को आवाजाही लायक खोल दिया जायेगा।