Home News International सीरिया पर हमला बहुत जल्द भी हो सकता है और देर में...

सीरिया पर हमला बहुत जल्द भी हो सकता है और देर में भी

29
0
SHARE
uknews-trump warns syria

ट्रंप सीरिया के राष्ट्रपति असद से खासे नाराज

वॉशिंगटन: सीरिया में हुए कथित केमिकल अटैक के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप सीरिया के राष्ट्रपति असद से खासे नाराज हैं। उन्होंने असद को जानवर कहते हुए कीमत भुगतने की धमकी भी दी थी।

हमारा थैंक्यू अमेरिका कहां है?

गुरुवार को ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘मैंने यह कभी नहीं कहा कि सीरिया पर हमला कब होगा। यह बहुत जल्द भी हो सकता है और देर में भी। मेरे शासन में अमेरिका ने ISIS से छुटकारा दिलाने में बड़ा काम किया है। हमारा थैंक्यू अमेरिका कहां है?’

 

ट्रंप मिसाइल हमले के दे सकते हैं आदेश

बता दें कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कुछ दिन पहले कहा था कि वह सीरिया से अपने सैनिक निकालना चाहते हैं। हालांकि दमिश्क के पास सीरियाई सेना के कथित तौर पर रासायनिक हमले के बाद उनका मूड बदल गया। माना जा रहा है कि पिछले साल की तरह इस साल भी ट्रंप मिसाइल हमले के आदेश दे सकते हैं।

रूस ने अमेरिका को दी थी चेतावनी

सीरिया में सैन्य हमले के बाद रूस ने अमेरिका को चेतावनी दी थी। ट्रंप ने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद की हिमायत करने पर रूस को चेतावनी दी। ट्रंप ने कहा कि असैन्य लोगों पर रासायनिक हथियारों के हमले के जवाब में अमेरिकी मिसाइलें आएंगी। ‘रूस, तैयार रहो क्योंकि तुम्हें इस हमले का हिस्सा नहीं होना चाहिए। तुम्हें लोगों की मौत का मजा नहीं लेना चाहिए।’

केमिकल अटैक में  मारे गए थे 70 लोग

बता दें कि पिछले सप्ताह डौमा में हुए केमिकल अटैक में कम से कम 70 लोग मारे गए थे। वॉशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि इस अटैक में नर्व गैस का इस्तेमाल किया गया था, जिससे लोगों का सांस लेना मुश्किल हो गया और उनके मुंह से झाग निकलने लगा।

कई देशों ने असद सरकार की आलोचना की

दुनिया के कई देशों ने असद सरकार की आलोचना की है। हालांकि सीरिया के सहयोगी रूस ने साफ कहा है कि कोई केमिकल अटैक नहीं हुआ है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने सोमवार को कहा कि रूसी विशेषज्ञों को सीरियाई विद्रोहियों के कब्जे वाले शहर डौमा से रासायनिक हमले के कोई निशान नहीं मिले हैं।

वहीं, पर्यवेक्षकों ने कथित केमिकल अटैक में 150 से ज्यादा लोगों के मरने की बात कही है। इनमें कई बच्चे भी हैं। हालांकि सांस लेने में तकलीफ के बाद 500 से ज्यादा लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।