Home News National भड़के सीएम ने लोगों को ‘नौटंकी’ बंद करने की दी चेतावनी

भड़के सीएम ने लोगों को ‘नौटंकी’ बंद करने की दी चेतावनी

40
0
SHARE
uknews-yogi adityanath at accident spot

कुशीनगर में 13 बच्चों की मौत

कुशीनगर :यूपी के कुशीनगर में गुरुवार को रेलवे क्रॉसिंग पर स्कूली बच्चों की दर्दनाक मौत की घटना के बाद घायलों को देखने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपना आपा खो बैठे। घटनास्थल पर हादसे से नाराज लोगों द्वारा प्रशासन और खुद के खिलाफ नारेबाजी से भड़के सीएम ने लोगों को ‘नौटंकी’ बंद करने की चेतावनी दी।

 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘यह एक दुखद घटना है और इस वक्त नारेबाजी बंद कर दें। मैं अभी भी बोल रहा हूं नोट कर लो। यह नौटंकी बंद करो। दुखद घटना है और हम शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।’

ड्राइवर ने लगाया था ईयरफोन

गौरतलब है कि कुशीनगर में एक मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर गुरुवार सुबह हुए भीषण हादसे में 13 स्‍कूली बच्‍चों की मौत हो गई। हादसे के बाद घायलों को देखने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने माना कि ड्राइवर ने कान में ईयरफोन लगा रखा था जिससे यह दर्दनाक हादसा हुआ। देखें विडियो

मानवरहित क्रॉसिंग को खत्‍म करने की अपील

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘मैंने रेल मंत्री से बात की है। उनसे मानवरहित क्रॉसिंग को खत्‍म करने की अपील की है। इस घटना के लिए जो भी जिम्‍मेदार होगा, उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी। मैं मृतक और घायल बच्‍चों के परिवार वालों से मिला हूं। इस प्रकरण में स्‍कूल के पंजीकरण की भी जांच होगी।

प्रथम दृष्‍टया ऐसा लग रहा है कि ड्राइवर ने कान में ईयरफोन लगा रखा था। उसकी उम्र भी सवालों के घेरे में है।’ इस बीच रेलवे ने भी सफाई दी है कि हादसे के समय मानवरहित क्रॉसिंग पर गेट मित्र तैनात था।

योगी ने बताया कि चार बच्‍चे और ड्राइवर घायल हैं। उन्‍हें गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। इस बीच रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने हादसे पर अपनी सफाई दी है। उन्‍होंने कहा कि घटनास्‍थल पर गेट मित्र तैनात था।

अरविंद कुमार भारती नामक गेटमैन ने वैन चालक को रोकने की कोशिश भी की थी, लेकिन कान में ईयरफोन लगाए होने की वजह से वह पटरी पर आ रही ट्रेन की आवाज सुन नहीं सका और वैन टकरा गई। लोहानी ने कहा कि यह हादसा बेहद दुखद है और हमने जांच के आदेश दे दिए हैं।

उन्‍होंने कहा कि रेलवे मानवरहित क्रासिंग को खत्‍म करने के लिए प्रयास किया जा रहा है। बता दें, गोरखपुर रेलमंडल में 633 मानवरहित क्रॉसिंग हैं, जहां हादसा हुआ वह भी एक था। लोहानी ने कहा कि इस इलाके में कई जगहों पर मानवरहित क्रॉसिंग को खत्‍म कर दिया गया है और जल्‍द ही जो बचे हैं, उन्‍हें भी खत्‍म कर दिया जाएगा। उन्‍होंने बताया कि वर्ष 2017 में रेल हादसों में बहुत कमी आई है और पिछले चार महीने में मानवरहित क्रॉसिंग पर यह पहला रेल हादसा है।