Home Uttarakhand Capital Doon संघर्ष व बलिदान के परिणाम स्वरूप ही उत्तराखण्ड का नये राज्य के...

संघर्ष व बलिदान के परिणाम स्वरूप ही उत्तराखण्ड का नये राज्य के रूप में हुआ निर्माण

28
0
SHARE
uknews-CM pays homage to the martyrs of the state movement at Rampur Triahya Shaheed memorial site
रामपुर तिराहा शहीद स्मारक स्थल पर राज्य आंदोलन के शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करते सीएम।

सीएम ने रामपुर तिराहा शहीद स्मारक स्थल पर राज्य आंदोलन के शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को शहीद स्थल रामपुर तिराहा, मुजफ्फरनगर में शहीद स्मारक पर उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलकारी शहीदों की पुण्य स्मृति में श्रद्धासुमन अर्पित किये। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य आन्दोलकारियों के संघर्ष व बलिदान के परिणाम स्वरूप ही उत्तराखण्ड का नये राज्य के रूप में निर्माण हुआ। जब हम राज्य आन्दोलन का जिक्र करते हैं तो 02 अक्टूबर का वह दृश्य याद आता है, जब राज्य निर्माण को लेकर आन्दोलनकारी दिल्ली जा रहे थे। तब पुलिस द्वारा ऐसे शान्तप्रिय लोगों पर बर्बर अत्याचार किया गया। इस घटना में हमारे 07 आन्दोलनकारी शहीद हो गये थे।

कुल 28 राज्य आन्दोलकारियों ने दी अपनी शहादत

उत्तराखण्ड राज्य निर्माण के संघर्ष में मसूरी, खटीमा, श्रीयंत्रटापू व रामपुर तिराहे पर कुल 28 राज्य आन्दोलकारियों ने अपनी शहादत दी। मुख्यमंत्री ने सभी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने राज्य आन्दोलन के लिये लम्बे समय तक संघर्ष करने वाले आन्दोलनकारियों के प्रति सम्मान का भाव व्यक्त किया।

राज्य प्रगति के पथ पर अग्रसर: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य आन्दोलनकारियों का जैसे नए उत्तराखण्ड राज्य का सपना था उसी के अनुरूप राज्य प्रगति के पथ पर अग्रसर है। जब राज्य निर्माण की रजत जयंती होगी तब तक उत्तराखण्ड विकास के पथ पर काफी आगे बढ़ जायेगा। 2025 तक हर घर तक पानी, सड़क, बेहतर स्वास्थ्य व शिक्षा की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। पिछले डेढ़ सालों में राज्य के तीव्र विकास के लिये तेजी से प्रयास किये गये। पर्वतीय क्षेत्रों में शिक्षकों, डाॅक्टरों की नियुक्ति की गई। डिग्री काॅलेजों में वर्तमान में 93 प्रतिशत शिक्षक उपलब्ध है, शीघ्र ही शत प्रतिशत शिक्षक उपलब्ध कराये जा रहे हैं। प्रदेश में 25 प्ण्ज्ण्प्ण् को अपग्रेड किया जा रहा है। जिनमें अधिक से अधिक ट्रेड हों, ताकि हमें हुनरमंद बच्चे मिल सकें।

7 व 8 अक्टूबर को दून में इन्वेस्टर्स समिट-डेस्टिनेशन उत्तराखण्ड का आयोजन

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड पर्वतीय प्रदेश है। आगामी 07 व 08 अक्टूबर को देहरादून में इन्वेस्टर्स समिट-डेस्टिनेशन उत्तराखण्ड का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें अभी तक 1700 से बडे उद्योगपति रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। राज्य को अभी तक 77 हजार करोड़ के इन्वेस्टमेंट के प्रस्ताव मिल चुके हैं। उत्तराखण्ड सबसे सस्ती दर पर बिजली उपलब्ध कराने वाला राज्य है। सभी प्रदेशवासियों  को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिये अटल उत्तराखण्ड आयुष्मान योजना के तहत सभी 22.5 लाख परिवारों को कवर किया जायेगा। राज्य की सभी न्याय पंचायतों को ग्रोथ सेन्टर के रूप में विकसित किया जा रहा है। जिनके माध्यम से स्थानीय व आॅर्गेनिक उत्पादों को बढ़ावा दिया जा रहा है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री स्व.श्री लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर किये श्रद्धासुमन अर्पित

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री स्व.श्री लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर श्रद्धासुमन भी अर्पित किये। मुख्यमंत्री ने पूर्व सांसद स्व. मालती शर्मा के आवास द्वारिकापुरी, मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश जाकर उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि स्व. मालती शर्मा ने राज्य आन्दोलकारियों की सहायता की थी जिसके लिये राज्य सदैव उनका ऋणी रहेगा।  इस अवसर पर विधायक खजानदास, स्वामी यतीश्वरानंद, कुँवर प्रणव चैंपियन, देशराज कर्णवाल, सुरेश राठौर, भाजपा के हरिद्वार जिलाध्यक्ष डाॅ. जयपाल सिंह, जिलाधिकारी हरिद्वार दीपक रावत व राज्य आन्दोलकारी उपस्थित थे।