Home News International अलग-थलग पड़ रहे पाकिस्तान की मदद को चीन आगे आया

अलग-थलग पड़ रहे पाकिस्तान की मदद को चीन आगे आया

47
0
SHARE
uknews-China Praises Pakistan's Counter Terrorism Efforts

पेइचिंग: आतंकवादी समूहों को फंडिंग रोकने में नाकाम रहे पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने के फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) के फैसले का भारत और अमरीका ने स्वागत किया है। इस बीच अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में एक बार फिर अलग-थलग पड़ रहे पाकिस्तान की मदद के लिए चीन आगे आ गया है।

अंतरराष्ट्रीय बिरादरी को पाकिस्तान पर भरोसा करना चाहिए: चीन

भारत के परंपरागत प्रतिद्वंद्वी इस पड़ोसी राज्य ने FATF के फैसले के इतर कहा है कि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी को पाकिस्तान पर भरोसा करना चाहिए। चीन ने आतंकवाद के खिलाफ ऐक्शन लेने के लिए पाकिस्तान की तारीफ भी की है।

चीन ने कहा है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में काफी प्रयास किए हैं और उसे बलिदान भी देना पड़ा है। चीन ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय की पाकिस्तान के इन प्रयासों को पूर्ण मान्यता दिए जाने की जरूरत है।

FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल दिया

आपको बता दें कि बुधवार को 37 सदस्यों के FATF ने बुधवार को पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल दिया। ग्रे लिस्ट में शामिल होने वाला पाकिस्तान 9वां देश है। FATF ने कहा कि टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग रोक पाने में रणनीतिक रूप से विफल पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था दुनिया की वित्तीय व्यवस्था को खतरे में डालेगी।

इस मुद्दे पर घिरे पाकिस्तान के लिए चीन एक बार फिर मददगार की भूमिका निभाता नजर आ रहा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से पाकिस्तानी मीडिया ने दावा किया कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ते हुए पाक ने न केवल चीन बल्कि दुनिया के कई देशों का भरोसा जीता है। पेइचिंग ने एक बार फिर कहा है कि आतंकी फंडिंग को रोकने के लिए पाकिस्तान सभी जरूरी कदमों का सक्रियता से उठाता रहा है।

भारत ने फैसले का किया स्वागत

उधर, भारत ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने के एफएटीएफ के फैसले का स्वागत किया है । साथ ही भारत ने उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान से पनपने वाले आतंकवाद को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जताई जा रही चिंता के समाधान के लिए पड़ोसी मुल्क कुछ विश्वसनीय कदम उठाएगा। FATF द्वारा सुझाई गई कार्य योजना को लेकर भारत ने उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान समयबद्ध तरीके से इसका पालन करेगा।

अमेरिका ने भी है कहा है कि आतंकवाद से निपटने के लिए पाकिस्तान द्वारा उठाए गए कदमों में अब भी बहुत सी खामियां हैं, जिन्हें FATF लगातार उठाता रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि इन खामियों में संयुक्त राष्ट्र द्वारा चिह्नित आंतकवादी समूहों के लिए निधि जुटाने या उन्हें पैसा भेजे जाने पर रोक न लगा पाना भी शामिल है।