Home Uttarakhand Capital Doon पतंजलि योगपीठ में आचार्यकुलम के नवनिर्मित भवन का उद्घाटन

पतंजलि योगपीठ में आचार्यकुलम के नवनिर्मित भवन का उद्घाटन

101
0
SHARE
uknews-amit sah

क्लर्क बनाने वाली थी अंग्रेजों की शिक्षा प्रणाली: अमित शाह

हरिद्वार: पतंजलि योगपीठ में आचार्यकुलम के नवनिर्मित भवन का उद्घाटन करने गुरुवार को हरिद्वार पहुंचे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि शिक्षा प्रणाली को भारतीय संस्कृति के अनुरूप बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि गुलामी के दौरान अंग्रेजों ने भारतीय धर्मस्थलों पर आघात करके शिक्षा व्यवस्था को ऐसा बना दिया जो सिर्फ क्लर्क बनाती है। इस दौरान शाह ने बाबा रामदेव की तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण की जोड़ी ने सबकुछ होते हुए भी अपने लिए कुछ नहीं किया।

बाबा रामदेव का अहम योगदान

शाह ने कहा कि सैकड़ों सालों की गुलामी की वजह से भारत को लगने लगा है कि जो पश्चिम से आया है, वह हमारी अपनी परंपराओं से बेहतर है। उन्होंने कहा, ‘पश्चिम की अच्छाई को स्वीकार करने से हमें कोई परहेज नहीं है लेकिन अपनी श्रेष्ठ चीजों को छोटा मान लेना ठीक नहीं है। अब इस सोच से बाहर निकलने का समय आ गया है।’ शाह ने कहा कि योग और स्वदेशी को एक करके इसे स्वीकार्य बनाने में बाबा रामदेव का अहम योगदान है।

आचार्यकुलम योग, स्वदेशी और वैदिक शिक्षा अनुष्ठान: बाबा रामदेव

उद्घाटन समारोह में बाबा रामदेव ने कहा कि आचार्यकुलम योग, स्वदेशी और वैदिक शिक्षा अनुष्ठान है। उन्होंने कहा कि शिक्षा, चिकित्सा, भाषा, आयुर्वेद और आत्मगौरव को भारतीय रूप देने का काम आचार्यकुलम कर रहा है। रामदेव ने यह घोषणा भी कि पतंजलि ट्रस्ट जल्द ही एक विश्वविद्यालय भी बनाएगा।

आचार्यकुलम के नए भवन के उद्घाटन समारोह में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के अलावा उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, आरएसएस के सर कार्यवाह भैया जी जोशी सहित कई अन्य मेहमान भी शामिल रहे। आपको बता दें कि वर्ष 2013 में शुरू हुए बाबा रामदेव के आचार्यकुलम का उद्घाटन नरेंद्र मोदी ने किया था। आचार्यकुलम को मॉर्डन गुरुकुल भी कहा जाता है। यहां अंग्रेजी और आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ वेद और संस्कृत की शिक्षा भी दी जाती है।