Home Uttarakhand Garhwal बाबा केदार ने किया हिमालय के लिए कूच

बाबा केदार ने किया हिमालय के लिए कूच

52
0
SHARE
uknews-baba ki doli
केदारपुरी के लिए रवाना होती बाबा की उत्सव डोली।
रुद्रप्रयाग। पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर से बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली अपने ग्रीष्मकालीन पड़ाव केदारनाथ के लिए रवाना हुई। ऊखीमठ में मंत्रोच्चारण, 10 जैकलाई रेजीमेंट एवं स्थानीय वाद्य यंत्रों की मधुर धुनों के बीच बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव मुर्तियां गर्भ गृह से बाहर लाई गयी, जहां आचार्यो, पुजारियों, वेदपाठियों एवं हक-हकूकधारियों ने मंत्रोच्चारण के साथ मूर्तियों की विशेष पूजा-अर्चना कर डोली में विराजमान किया।

10 जैकलाई की बैंड धुनों ने मोहा श्रद्धालुओं का मन

डोली को फूल-मालाओं से सुसज्जित किया गया। डोली के अपने ग्रीष्मकालीन पड़ाव जाते समय भावुक क्षण भी देखने को मिले, जबकि कई श्रद्धालु बाबा केदार की भक्ति में लीन होकर आर्मी की बैण्ड धुनों पर थिरकने लगे और महिला श्रद्धालु बाबा केदार के भजनों में मद-मस्त रही। 
बृहस्पतिवार की सुबह ठीक साढ़े नौ बजे भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोलीे केदारपुरी के लिए रवाना हुई। जैसे ही बाबा की डोली को उठाया गया, वैसे ही भोलेनाथ के जयकारों और कीर्तन-भजनों से मन्दिर परिसर गुंजायमान हो उठा। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि सम्पूर्ण देव लोक  इसी भू-भाग पर उतर आया है। भगवान केदार बाबा के साक्षात दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओ ंका हुजूम उमड पड़ा।
बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली जैबरी, विद्यापीठ, गुप्तकाशी, नाला, नारायकोटी, कोरखी, मैखण्डा सहित विभिन्न यात्रा पड़ावों पर श्रद्धालुओ को आशीष देते हुए प्रथम रात्रि प्रवास के लिए फाटा पहुँची। कई श्रद्धालुओं द्वारा भक्तों को मिष्ठान वितरण किया गया।

ग्रीष्मकाल के छः माह केदारधाम में रहेंगे भोलेनाथ

भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के अपने शीतकालीन गद्दी स्थल आंेकारेश्वर मंदिर से रवाना होने से पूर्व राॅवल भीमाशंकर लिंग ने केदारनाथ के प्रधान पुजारी टी गंगाधर लिंग को पगड़ी एवं टोपी पहनाकर छः माह केदारनाथ धाम में विधिवत पूजा-अर्चना का संकल्प दिया।
राॅवल द्वारा प्रधान पुजारी को दिये गये संकल्प के अनुसार केदारनाथ के प्रधान पुजारी को छः माह केदारपुरी में ही प्रवास करेंगे। साथ ही प्रधान पुजारी को नदी, नालों एवं पर्वतों की सीमा पार करना भी वंचित माना जाता है। इससे पूर्व बुधवार को देर सांय केदारपुरी के क्षेत्र रक्षक भैरवनाथ की पूजा अर्चना विधि-विधान से की गई।
इस मौके पर केदारनाथ विधायक मनोज रावत, क्षेत्र पंचायत प्रमुख शन्तलाल शाह, जिला पंचायत सदस्य संगीता नेगी, नगर पंचायत अध्यक्ष रीता पुष्पवान, बद्री केदार मन्दिर समिति सदस्य श्रीनिवास पोस्ती, शिव सिह रावत, प्रदीप बगवाडी़, कार्याधिकारी एनपी जमलोकी, गिरीश देवली, प्रशासनिक अधिकारी राजकुमार नौटियाल, वचन सिंह रावत, लेखाकार आरसी तिवारी, हरीश गौड़, देवानन्द गैरोला, आचार्य हर्ष जमलोकी, विश्वमोहन जमलोकी, बलवन्त सिंह रावत, रणजीत रावत, रेखा रावत, यशोधर मैठाणी, नवीन मैठाणी, राजशेखर लिंग, बागेंश लिंग, सरस्वती धिरवाण, प्रमोद नेगी, राजकुमार तिवाडी, कर्मवीर बत्र्वाल, लक्ष्मी प्रसाद भट्ट, अरूणा नौटियाल, विजया नेगी सहित देश विदेश के श्रद्धालु मौजूद थे।