Home News National बिहार में बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन अटूट: शाह

बिहार में बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन अटूट: शाह

38
0
SHARE
uknews-Amit Shah meets Nitish Kumar

पटना: बिहार में एनडीए गठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर गुरुवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने करीब 45 मिनट तक आपस में मुलाकात की।

पटना में हुई इस मुलाकात के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि बिहार में बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन अटूट है और आने वाले वक्त में दोनों पार्टियां एक साथ चुनाव लड़ेंगी। शाह ने यह भी दावा किया कि 2019 के चुनाव में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन को बिहार की सभी 40 सीट पर विजय भी मिलेगी।

एनडीए को सभी 40 सीटों पर मिलेगी विजय

बिहार में ज्ञान भवन में अपनी सभा के दौरान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि 2019 के चुनाव में बीजेपी गठबंधन को पू्र्ण बहुमत के साथ सरकार बनानी है और इसके लिए कार्यकर्ताओं को पूरी लगन से काम करना होगा। शाह ने कहा कि बिहार में महागठबंधन को हार का सामना करना होगा और एनडीए को सभी 40 सीटों पर विजय मिलेगी।

जनता कांग्रेस से मांग रही 4 पीढ़ी का हिसाब

शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि राहुल बाबा आजकल बीजेपी से सवाल पूछ रहे हैं लेकिन राहुल बाबा आपको सवाल पूछने का अधिकार नहीं है और जनता आपसे 4 पीढ़ियों का जवाब मांग रही है। जनता जानना चाहती है कि 55 साल के शासन में आपने देश के लिए क्या किया। शाह ने कहा कि कांग्रेस की सरकार के वक्त आतंकी हमले होते थे और हमारी सरकार में भारतीय सैनिकों ने भारत माता की जय के नारे के साथ आतंकियों के घर में घुसकर उन्हें नेस्तनाबूत किया।

‘जनता को जवाब देना हमारा फर्ज है’

शाह ने कहा कि देश की जनता ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की सरकार को जवाब दिया और हमारा फर्ज है कि उन्हें जवाब देना चाहिए। बिहार ने हमें जनादेश दिया है और हम यहां के लोगों को जवाब देने आए हैं। राहुल बाबा सुन लें हम जनता को चार पीढ़ी का जवाब देने आए हैं और वह इसकी तुलना अपनी पार्टी के चार पीढ़ी के शासन के साथ कर लें।

‘राहुल को घोटाले की भाषा समझ आती है’

अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी को घोटाले की भाषा ही समझ आती है क्योंकि उनका संगम लालू यादव से हो गया है। शाह ने कहा कि मीडिया में चल रहा है सब एक हो गए और महागठबंधन हो गया। मैं पूछना चाहता हूं कि 2014 के चुनाव में ममता, मायावती, अखिलेश, सोनिया और राहुल सभी हमारे खिलाफ लड़े थे और इन सब को 2014 के चुनाव में हराकर हमनें सरकार बनाई थी। इस बार सिर्फ चंद्रबाबू जी उनके साथ गए हैं और नीतीश जी हमारे साथ आ गए। शाह ने कहा कि महान चाणक्य ने बताया था कि जब सभी चोर एक साथ हो जाएं तो समझ लो राजा प्रामाणिक है।

सुबह नाश्ते पर मिले थे शाह और नीतीश

बता दें कि बिहार में जारी सियासी घमासान के बीच अमित शाह ने गुरुवार सुबह नाश्ते पर जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की थी। 45 मिनट की इस बैठक के दौरान दोनों नेताओं के बीच बिहार में लोकसभा चुनाव के पहले सीट बंटवारे को लेकर चर्चा हुई थी। बताया जा रहा है कि दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच गठबंधन को लेकर एक सकारात्मक बातचीत हुई है और सीट बंटवारे को लेकर जो भी मतभेद हैं उन्हें बुधवार रात होने वाले डिनर के दौरान सुलझा लिया जाएगा।