Home Breaking आखिरकार डीपी सिंह ने किया आत्मसमर्पण

आखिरकार डीपी सिंह ने किया आत्मसमर्पण

123
0
SHARE
uknews-dp singh

रुद्रपुर: एनएच 74 मुआवजा घपले के आरोपी पूर्व भूमि अध्याप्ति अधिकारी डीपी सिंह ने आखिरकार आत्मसमर्पण कर दिया है। उनकी गिरफ्तारी के लिए एसआइटी ताक लगाकर बैठी थी। लेकिन डीपी सिंह के आत्मसमर्पण करने की उनको कानों कान खबर नहीं लग पार्इ।

एसआइटी का दावा

दरअसल,  एनएच 74 मुआवजा घोटाला मामले में एसआइटी ने उन्हें मुख्य आरोपी माना है। टीम का दावा है कि डीपी सिंह के दोषी होने के उनके पास पुख्ता सुबूत हैं। उनसे पहले पूर्व एसडीएम भगत सिंह फोनिया समेत आठ लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। डीपी सिंह की पुलिस को तलाश थी। हाई कोर्ट से राहत न मिलने के बाद वह सुप्रीम कोर्ट तक गए लेकिन बात नहीं बनी।

डीपी सिंह खुद एसएसपी कार्यालय पहुंच गए

पुलिस ने उनके घर पर कुर्की के नोटिस चस्पा कर दिए थे, साथ ही उनके खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किए गए थे। पुलिस डीपी सिंह की तलाश में कर्इ जगह डेरा डाले हुए थी, लेकिन गुरुवार को डीपी सिंह खुद एसएसपी कार्यालय पहुंच गए और आत्मसमर्पण कर दिया। यहां एसपी क्राइम कमलेश उपाध्याय और विवेचक सीओ स्वंतत्र कुमार पहले से ही मौजूद थे। डीपी सिंह को हिरासत में लेकर उनसे कई घंटे पूछताछ की गई।

बता दें कि इसी वर्ष दस मार्च को ऊधमसिंह नगर जिले के अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व प्रताप शाह की ओर से डीपी सिंह के खिलाफ थाने मे मुकदमा दर्ज कराया गया था। एडीएम की तहरीर में कहा गया था कि विशेष भूमि अध्याप्ति अधिकारी रहते डीपी सिंह द्वारा एनएच-74 चौड़ीकरण के लिए अधिकृत काश्तकारों की कृषि भूमि को अकृषि दिखाकर आठ से दस गुना अधिक मुआवजा दिया गया।

सरकार को राजस्व की बड़ी क्षति हुई

जिससे सरकार को राजस्व की बड़ी क्षति हुई। मुकदमा दर्ज होने के बाद डीपी सिंह ने खुद को निर्दोष करार देते हुए हाई कोर्ट में याचिका दायर कर गिरफ्तारी पर रोक लगाने की गुहार लगाई। 13 अक्टूबर को हाई कोर्ट ने अंतरिम आदेश देते हुए डीपी सिंह की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी।

LEAVE A REPLY