Home Uttarakhand Capital Doon 19वीं बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली रथ यात्रा 29 अप्रैल से 24...

19वीं बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली रथ यात्रा 29 अप्रैल से 24 मई तक

28
0
SHARE
uknews-press confrence of nathani
पत्रकार वार्ता के दौरान यात्रा के संयोजक पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथाणी व अन्य।
देहरादून। 19वीं बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली रथ यात्रा 29 अप्रैल से शुरु होगी, जो कि 24 मई तक चलेगी। विश्वनाथ एंव जगदीशिला डोली रथ यात्रा टिहरी गढ़वाल के विशोन पर्वत जो कि स्वामी रामतीर्थ की तपस्थली रही है से विश्व शांति की कामना और हजार धाम की स्थापना के ध्येय के साथ हरकी पैड़ी हरिद्वार से शुरु होगी। इस यात्रा का समापन 24 मई को गंगा दशहरा पर विशोन पर्वत नीलाछाड़ में होगा।

28 अप्रैल को डोली विशोन पर्वत से प्रस्थान कर पहुंचेगी ऋषिकेश

देहरादून में गांधी रोड स्थित गौरव होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में यात्रा के संयोजक प्रदेश के पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी द्वारा इस यात्रा के बारे में जानकारी दीे गई। उन्होंने बताया कि 28 अप्रैल को डोली विशोन पर्वत से प्रस्थान कर ऋषिकेश पहुंचेगी। 29 अप्रैल को यात्रा का हरिद्वार में हरकी पैड़ी में डोली का आगमन और गंगा स्नान व पूजन के साथ विधिवत श्रीगणेश होगा।
30 अप्रैल को यात्रा जौलीग्रांट चैक, ऋषिकेश, नरेंद्रनगर, दुआधार, आगराखाल, फकोट, खाड़ी, गजा, होते हुए नई टिहरी पहुंचेगी। 1 मई को यात्रा चंबा, सुरकंडा, धनोल्टी, सुवाखोली होते हुए रात्रि विश्राम के लिए मसूरी पहुंचेगी। 2 मई को मसूरी से प्रस्थान कर कैंपटीफाल, नैनबाग, डामटा, नौगांव होते हुए पुरोला पहुंचेगी। 3 मई को यात्रा पुरोला से प्रस्थान कर बड़कोट, ब्रह्मखाल, धरासू, चिन्यालीसौड़, डुंडा होते हुए मसूरी पहुंचेगी।
4 मई को यात्रा उत्तरकाशी से प्रस्थान कर चैरंगीखाल, धौंतरी, रातधार, लंबगांव, कोटगा, रजाखेत, बड़कोट, नंदगांव, टिपरी होते हुए जाखणीधार से पटेब पहुंचकर रात्रि विश्राम करेगी। 5 मई को देवप्रयाग स्थित श्री रघुनाथ मंदिर में रात्रि विश्राम करेगी। 6 मई को जोशीमठ स्थित श्री नृसिंग मंदिर, 7 मई को नौटी स्थित मां नंदा देवी मंदिर में रात्रि विश्राम करेगी। 8 मई को देवाल में, 9 मई को कुंवर मेहराज सिंह मैमोरियल एशियन स्कूल चैकोरी में डोली दर्शन व रात्रि विश्राम होगा।
10 मई को मुनस्यारी, 11 मई को पिथौरागढ़ और 12 मई को देवीधुरा स्थित मां बाराही मंदिर में रात्रि विश्राम, 13 मई को अल्मोड़ा स्थित मां नंदा देवी मंदिर, 14 मई को हल्द्वानी स्थित सत्यनारायण मंदिर में, 15 मई को कोटद्वार स्थित बाबा सिद्धबली मंदिर में, 16 मई को पौड़ी में श्री किलांकेश्वर एवं कंडोलिया देवता मंदिर में और 17 मई को उखीमठ स्थित श्री ओंकारेश्वर मंदिर कालीमठ में प्रस्थान करेगी।

23 मई को बिशोन पर्वत में होगा रात्रि विश्राम

18 मई को बजीरा गांव में, 19 मई को बूढ़ाकेदार मंदिर में और 20 मई को बहेड़ा शिवालय में रात्रि विश्राम करेगी। 21 मई को यात्रा बजियाल गांव में, 22 मई को सरपोली में और 23 मई को बिशोन पर्वत में रात्रि विश्राम होगा। 24 मई को विशोन पर्वत पर गंगा दशहरा स्नान कर यात्रा निलाछाड़ के लिए प्रस्थान करेगी।

सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाएंगे पेश

 इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए जाएंगे। 24 मई को निलाछाड़ में यात्रा का समापन होगा। पत्रकार वार्ता में श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली रथ यात्रा पर्यटन विकास समिति के अध्यक्ष रूप सिंह बजियाला, महेंद्र लुंठी, इंद्रभूषण बडोनी, सुरेंद्र सिंह बिष्ट, समाजसेवी मोहनलाल, भाष्कर गैरोला आदि मौजूद रहे।