Home National Uttarakhand जानिये … उच्च शिक्षा विभाग में जीरो टॉलरेंस के तहत क्या हुई...

जानिये … उच्च शिक्षा विभाग में जीरो टॉलरेंस के तहत क्या हुई कार्रवाई

105
0
SHARE

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत उच्च शिक्षा विभाग के निदेशक डॉ.बी.सी. मेलकानी, प्राचार्य एम.बी.राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी(नैनीतील) डॉ.जगदीश प्रसाद, प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय देवीधूरा(चम्पावत) डॉ.एस.एस.उनियाल, सहायक प्राध्यापक, एम.बी.राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी(नैनीतील) डॉ.एन.के.लोहनी को प्रस्तावित अनुशासनिक कार्यवाही के मद्देनजर तत्कालिक प्रभाव से निलंबित किया गया हैै।
इस संबंध में निलंबन के आदेश अपर मुख्य सचिव डॉ. रणवीर सिंह द्वारा जारी किये गये है। उन्होंने जारी आदेश में निदेशक, उच्च शिक्षा उत्तराखंड को उनके प्राचार्य राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी (नैनीतील) के कार्यकाल के दौरान हुई अनियमितताओं यथा मीमांशा आर्य के सत्र 2013-14 की फाइनल परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने के पश्चात् पुनः सत्र 2014-15 में उन्हीं विषयों में प्रवेश के नाम पर चल रही धांधली का संज्ञान न लेना, प्राचार्य के रूप में हस्ताक्षर व मोहर को काटने, प्रवेश समिति के गठन के बाद भी अन्य अधिकारियों कर्मचारियों के द्वारा प्रवेश-दाखिले में संलिप्तता का संज्ञान न लेना, प्रवेश समिति के सदस्य के हस्ताक्षर न होने के बावजूद महाविद्यालय में छात्रों का प्रवेश देना महाविद्यालय में यूजीसी से प्राप्त ग्रांट का समय पर उपयोग न करना और वापस न करने के आरोपों पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। उन्होंने प्राचार्य एम.बी.राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी(नैनीतील) डॉ.जगदीश प्रसाद के लिये जारी आदेश में प्रकाश चन्द्र पनेरू को 2014-15 में बीए प्रथम वर्ष मंे अनुत्तीर्ण होने के पश्चात् गलत शपथ-पत्र के आधार पर वर्ष 2015-16 पुनः बीए प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने को पूर्णतः वैध और नियमों के अनुरूप मानते हुए कुमांऊ विश्वविद्यालय नैनीताल को संस्तुति प्रदान करने, कु.मीमांशा आर्य से संबंधित प्रवेश प्रकरण वर्ष 2014-15 के समान एक ही जैसे 02 प्रकरणों में से प्रकाश चन्द्र पनेरू के प्रवेश प्रकरण में कार्यवाही करने की अनुशंसा करते हुए महाविद्यालय में भेदभावपूर्ण कार्यशैली, पक्षपातपूर्ण रवैया तथा महाविद्यालय के निर्माण कार्यों के पर्यवेक्षण करने में लापरवाही करने के आरोपों पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलम्बित किया गया है।
इसी क्रम में प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय देवीधूरा(चम्पावत) डॉ.एस.एस.उनियाल ने एसोसिएट प्रोफेसर गणित राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, हल्द्वानी नैनीताल के कार्यकाल के दौरान मीमांशा आर्य के प्रवेश आवेदन के लिये प्रवेश लिपिक भाकुनी को प्रवेश शुल्क लेने हेतु अनाधिकृत रूप से निर्देशित करने तथा महाविद्यालय में फर्जी प्रवेश प्रक्रिया में संलिप्त होने के आरोपों पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलम्बित किया गया है। इसके साथ ही सहायक प्राध्यापक, एम.बी.राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी(नैनीतील) डॉ.एन.के. लोहनी जिनके संविदा प्राध्यापक के कार्यकाल के दौरान मीमांशा आर्य के प्रवेश आवेदन(सत्र 2014-15) पर समिति सदस्य या संयोजक न रहते हुए आवेदन पत्र पर हस्ताक्षर करने तथा महाविद्यालय में फर्जी प्रवेश पत्र प्रक्रिया में संलिप्त रहने के आरोपों में निलम्बित किया गया है। इसके साथ ही तत्कालिन प्रवेश लिपिक-कनिष्ठ सहायक (उपनल) दिनेश सिंह भाकुनी को एम.बी.राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी(नैनीताल) में वर्ष 2014-15 में मीमांशा आर्य को अनुचित प्रवेश में संलिप्तता होने के दृष्टिगत उनके विरूद्ध कठोर कार्यवाही करने के निर्देश प्रभारी निदेशक उच्च शिक्षा निदेशालय हल्द्वानी, नैनीताल को पत्र लिखा गया है।

LEAVE A REPLY