SHARE

देहरादून। उत्तराखंड लिंगानुपात सुधारने के लिए सरकार ने प्रयास तेज कर दिए हैं। इसी क्रम में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सचिवालय में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास की कार्यकारिणी समिति की बैठक में तमाम निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उच्च अधिकारी भी जनपदों का भ्रमण कर योजनाओं को गति प्रदान करें। उन्होंने कहा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना को और कारगर ढंग से लागू करने के लिए और गहराई से मॉनिटरिंग करने की जरूरत है। बालक-बालिका लिंगानुपात को पटरी पर लाने के लिए पिथौरागढ़, चम्पावत, चमोली, देहरादून और हरिद्वार जिलों पर विशेष फोकस करना होगा। बताया गया कि आंगनवाड़ी केंद्रों में गुड्डी-गुड्डा बोर्ड लगाया गया है। लिंगानुपात की सही जानकारी ली जा रही है। आंगनवाड़ी केंद्रों पर बेटी जन्मोत्सव मनाया जा रहा है। वीमेन हेल्पलाइन नम्बर 181 के जरिये महिलाओं की मदद की जा रही है। हरिद्वार, देहरादून, उधम सिंह नगर और नैनीताल में वन स्टॉप सेंटर स्थापित कर दिए गए हैं। इस केंद्र पर पीडि़त महिलाओं को रुकने की व्यवस्था भी की गई है। पुलिस इंस्पेक्टर, मेडिकल और अधिवक्ता की सुविधा केंद्र पर ही उपलब्ध कराई जा रही है।
चारधामों में महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा आदिभोग नाम से प्रसाद बनाने का कार्य किया जा रहा है। मुख्य सचिव ने कहा कि इसी तरह की व्यवस्था जागेश्वर धाम, नंदा देवी, पूर्णागिरि आदि स्थानों पर भी किया जाय। बैठक में प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी, सचिव स्वास्थ्य नितेश झा, महानिदेशक शिक्षा कैप्टन शेखर तिवारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY